Saturday, 30 July 2011

गजल

अँहा तँ असगरें मे कानब मोन पाड़ि कए

करेजक बाकस के घाँटब मोन पाड़ि कए


आइ भने विछोह नीक लागि रहल अँहा के

काल्हि अहुरिआ काटि ताकब मोन पाड़ि कए


मिझरा गेलैक नीक-बेजाए दोगलपनी सँ

कहिओ एकरा अँहा छाँटब मोन पाड़ि कए


अँहा जते नुका सकब नुका लिअ भरिपोख

फेर तँ अँही एकरा बाँटब मोन पाड़ि कए


आइ जते फाड़बाक हुअए फाड़ि दिऔ अहाँ

मुदा फेर तँ इ अँही साटब मोन पाड़ि कए



**** वर्ण---------17*******

Friday, 29 July 2011

गजल

जीबन मे दर्दक सनेश शेष कुशल अछि

हम नहि कहब विशेष शेष कुशल अछि


अन्हरे सरकार तँ चला रहल राज-काज

की कहू, छै बौकक इ देश शेष कुशल अछि


देहे टा बदलैए आत्मा नहि सूनि लिअ अहाँ

एहने सरकारक भेष शेष कुशल अछि


मुक्का आ थापड़क उपयोग के करत आब

खाली आँखिए लाल-टरेस शेष कुशल अछि


गजल कहब एतेक सोंझ नै अनचिन्हार

हम तँ आब चलै छी बेस शेष कुशल अछि





**** वर्ण---------17*******

Thursday, 28 July 2011

दोहा/ रोला/ कुण्डलिया

दोहा
दोहा मात्रिक छन्द अछि। दोहामे दू पाँती आ चारि चरण होइत अछि। पहिल चरणमे १३,दोसर चरणमे ११,तेसर चरणमे १३आ चारिम चरणमे ११ मात्रा होइत अछि। पहिल आ तेसर चरणक आरम्भ जगणसँ (जगण U U) नै हएत आ दोसर आ चारिम चरण अन्त हएत दीर्घ-ह्रस्वसँ।
रोला
रोला सेहो मात्रिक छन्द अछि। रोलामे चारि पाँती आ आठ चरण होइत अछि। पहिल चरणमे ११, दोसर चरणमे १३, तेसर चरणमे ११ आ चारिम चरणमे १३ मात्रा, पाँचम चरणमे ११, छअम चरणमे १३ मात्रा होइत अछि। सभ पाँतीक पहिल चरणक अन्तमे दीर्घ-ह्रस्व, वा ह्रस्व-ह्रस्व-ह्रस्व होइत अछि। सभ पाँतीक दोसर चरणक अन्तमे चारिटा ह्रस्व, वा दूटा दीर्घ, वा दीर्घ-ह्रस्व-ह्रस्व (भगण U U), वा ह्रस्व-ह्रस्व-दीर्घ (सगण U U ।) होइत अछि। रोलाक प्रारम्भ ह्रस्व-दीर्घ-ह्रस्वसँ नै करू।  

कुण्डलिया
दोहा आ रोलाक कुण्डली (मिश्रण) भेल कुण्डलिया। दोहा लिख दियौ, फेर दोहाक अन्तिम चरणकेँ (११ मात्रा बला) रोलाक पहिल चरण बना दियौ (पुनरावृत्ति) आ फेर रोला जोड़ू। खाली ई ध्यान राखू जे दोहाक पहिल चरणक पहिल शब्द आ रोलाक अन्तिम चरणक अन्तिम शब्द एक्के रहए। कुण्डलियाक पहिल शब्द आ अन्तिम शब्द एक्के होइए। कुण्डलियाक चारिम आ पाँचम चरण सेहो एक्के होइए।

छन्द विचार
साहित्यक दू विधा अछि गद्य आ पद्य।छन्दोबद्ध रचना पद्य कहबैत अछि-अन्यथा ओ गद्य थीक। छन्द माने भेल-एहन रचना जे आनन्द प्रदान करए।

छन्द दू प्रकारक अछि।मात्रिक आ वार्णिक।
मात्रिक गणना
मैथिलीक उच्चारण निर्देश आ ह्रस्व-दीर्घ विचारपर आउ।
शास्त्रमे प्रयुक्त गुरुलघुछंदक परिचय प्राप्त करू।

तेरह टा स्वर वर्णमे अ,,,,लृ - ह्र्स्व आर आ,,,,ए.ऐ,,औ- दीर्घ स्वर अछि।

ई स्वर वर्ण जखन व्यंजन वर्णक संग जुड़ि जाइत अछि तँ ओकरासँ गुणिताक्षरबनैत अछि।

क्+अ= क,

क्+आ=का ।

एक स्वर मात्रा आकि एक गुणिताक्षरकेँ एक अक्षरकहल जाइत अछि। कोनो व्यंजन मात्रकेँ अक्षर नहि मानल जाइत अछि- जेना अवाक्शब्दमे दू टा अक्षर अछि, , वा ।


१. सभटा ह्रस्व स्वर आ ह्रस्व युक्त गुणिताक्षर लघुमानल जाइत अछि। एकरा ऊपर U लिखि एकर संकेत देल जाइत अछि।

२. सभटा दीर्घ स्वर आर दीर्घ स्वर युक्त गुणिताक्षर गुरुमानल जाइत अछि, आ एकर संकेत अछि, ऊपरमे एकटा छोट -।

३. अनुस्वार किंवा विसर्गयुक्त सभ अक्षर गुरू मानल जाइत अछि।

४. कोनो अक्षरक बाद संयुक्ताक्षर किंवा व्यंजन मात्र रहलासँ ओहि अक्षरकेँ गुरु मानल जाइत अछि। जेना- अच्, सत्य। एहिमे अ आ स दुनू गुरु अछि।

जेना कहल गेल अछि जे अनुस्वार आ विसर्गयुक्त भेलासँ दीर्घ होएत तहिना आब कहल जा रहल अछि जे चन्द्रबिन्दु आ ह्रस्वक मेल ह्रस्व होएत।
माने चन्द्रबिन्दु+ह्रस्व स्वर= एक मात्रा

संयुक्ताक्षर: एतए मात्रा गानल जाएत एहि तरहेँ:-
क्ति= क् + त् + इ = ०+०+१= १
क्ती= क् + त् + ई = ०+०+२= २
क्ष= क् + ष= ०+१
त्र= त् + र= ०+१
ज्ञ= ज् + ञ= ०+१
श्र= श् + र= ०+१
स्र= स् +र= ०+१
शृ =श् +ऋ= ०+१
त्व= त् +व= ०+१
त्त्व= त् + त् + व= ० + ० + १
ह्रस्व + ऽ = १ + ०
अ वा दीर्घक बाद बिकारीक प्रयोग नहि होइत अछि जेना दिअऽ आऽ ओऽ (दोषपूर्ण प्रयोग)। हँ व्यंजन+अ गुणिताक्षरक बाद बिकारी दऽ सकै छी।
ह्रस्व + चन्द्रबिन्दु= १+०
दीर्घ+ चन्द्रबिन्दु= २+०
जेना हँसल= १+१+१
साँस= २+१
बिकारी आ चन्द्रबिन्दुक गणना शून्य होएत।
जा कऽ = २+१
क् =०
क= क् +अ= ०+१
किएक तँ क केँ क् पढ़बाक प्रवृत्ति मैथिलीमे आबि गेल तेँ बिकारी देबाक आवश्यकता पड़ल, दीर्घ स्वरमे एहन आवश्यकता नहि अछि।


U- ह्रस्वक चेन्ह
।- दीर्घक चेन्ह

एक दीर्घ =दूटा ह्रस्व U

वार्णिक गणना
संयुक्त्ताक्षरकेँ  एक गानू आ  हलन्तक/ बिकारीक/ इकार आकार आदिक गणना नहि करू। वार्णिक छन्दक परिचय लिअ। एहिमे अक्षर गणना मात्र होइत अछि। हलंतयुक्त अक्षरकेँ नहि गानल जाइत अछि। एकार उकार इत्यादि युक्त अक्षरकेँ ओहिना एक गानल जाइत अछि जेना संयुक्ताक्षरकेँ। संगहि अ सँ ह केँ सेहो एक गानल जाइत अछि।द्विमानक कोनो अक्षर नहि होइछ।मुख्य तीनटा बिन्दु यादि राखू-

1.हलंतयुक्त्त अक्षर-0
2.संयुक्त अक्षर-1
3.अक्षर अ सँ ह -1 प्रत्येक।

आब पहिल उदाहरण देखू
ई अरदराक मेघ नहि मानत रहत बरसि के=1+5+2+2+3+3+1=17 मात्रा

आब दोसर उदाहरण देखू
पश्चात्=2 मात्रा

आब तेसर उदाहरण देखू
आब=2 मात्रा

आब चारिम उदाहरण देखू
स्क्रिप्ट=2 मात्रा

मुख्य वैदिक छन्द सात अछि-गायत्री,उष्णिक् ,अनुष्टुप् ,बृहती,पङ् क्त्ति,त्रिष्टुप् आ  जगती। शेष ओकर भेद अछि अतिछन्द आ  विच्छन्द। छन्दकेँ अक्षरसँ चिन्हल जाइत अछि। यदि अक्षर पूरा नहि भेलतँ एक आकि दू अक्षर प्रत्येक पादमे बढ़ा लेल जाइत अछि।य आ
व केर संयुक्ताक्षरकेँ क्रमशः इ आ  उ लगा कय अलग केल जाइत अछि।जेना-
वरेण्यम्=वरेणियम्
स्वः= सुवः
गुण आ वृद्धिकेँ अलग कयकेँ सेहो अक्षर पूर कय सकैत छी।
ए= अ + इ 
ओ= अ + उ
ऐ= अ/आ + ए
औ= अ/आ + ओ 


सरल वार्णिक छन्दमे ह्रस्व आ दीर्घक विचार नै राखल जाइए। मुदा वार्णिक छन्दमे ह्रस्व आ दीर्घक विचार राखल जा सकैत अछि, कारण वैदिक वर्णवृत्तमे बादमे वार्णिक छन्दमे ई विचार शुरू भऽ गेल छल:- जेना
तकैत रहैत छी ऐ मेघ दिस
तकैत (ह्रस्व+दीर्घ+दीर्घ)- वर्णक संख्या-तीन
रहैत (ह्रस्व+दीर्घ+ह्रस्व)- वर्णक संख्या-तीन
छी (दीर्घ) वर्णक संख्या-एक
(दीर्घ) वर्णक संख्या-एक
मेघ (दीर्घ+ह्रस्व) वर्णक संख्या-दू
दिस (ह्रस्व+ह्रस्व) वर्णक संख्या-दू

मात्रिक छन्दमे द्विकल, त्रिकल, चतुष्कल, पञ्चकल आ षटकल अन्तर्गत एक वर्ण (एकटा दीर्घ) सँ छह वर्ण (छहटा ह्रस्व) धरि भऽ सकैए।
द्विकलमे- कुल मात्रा दू हएत, से एकटा दीर्घ वा दूटा ह्रस्व हएत।
त्रिकलमे कुल मात्रा तीन हएत- ह्रस्व+दीर्घ, दीर्घ+ह्रस्व आ ह्रस्व+ह्रस्व+ह्रस्व; ऐ तीन क्रममे।
चतुष्कलमे कुल मात्रा चारि; पञ्चकलमे पाँच; षटकलमे छह मात्रा हएत।
वार्णिक छन्द तीन-तीन वर्णक आठ प्रकारक होइत अछि जे यमाताराजसलगम् सूत्रसँ मोन राखि सकै छी।
आब कतेक पाद आ कतऽ यति,अन्त्यानुप्रास देबाक अछि; कोन तरहेँ क्रम बनेबाक अछि से अहाँ स्वयं वार्णिक/ मात्रिक आधारपर कऽ सकै छी, आ विविधता आनि सकै छी।
वर्ण छन्दमे तीन-तीन अक्षरक समूहकेँ एक गण कहल जाइत अछि। ई आठ टा अछि-
यगण  U।।
रगण U
तगण ।। U
भगण U U
जगण U U
सगण U U
मगण ।।।
नगण U U U

एहि आठक अतिरिक्त दूटा आर गण अछि- ग / ल
ग- गण एकल दीर्घ ।
ल- गण एकल ह्रस्व U
एक सूत्र- आठो गणकेँ मोन रखबा लेल:-
यमाताराजभानसलगम्
आब एहि सूत्रकेँ तोड़ू-
यमाता U।। = यगण
मातारा  ।।। = मगण
ताराज ।। U = तगण
राजभा U। = रगण
जभान U U = जगण
भानस U U = भगण
नसल U U U = नगण
सलगम् U U । = सगण

गजल

मोन पड़ैए केओ अनचिन्हार सन

साइत कहीं इएह ने हो प्यार सन


जे नै कमा सकए टका बेसी सँ बेसी

लोक तँ ओकरे बुझै छै बेकार सन


समय कहाँ कहिओ खराप भेलैए

कमजोर के लगिते छै अन्हार सन


किछु तँ देखाएल चोके-अनचोके मे

चोरे तँ बुझाइए पहरेदार सन


संग रहबै-छोड़बै तँ फरक देखू

बालु जकाँ समस्या पहाड़ सन





**** वर्ण---------14*******

Wednesday, 27 July 2011

गजल

देह केराक थंब सन गोर-नार लगैए

अड़हूलक फूल सन भकरार लगैए


नोर अँहाक तँ बेली-चमेली,गेंदा-गुलाब

मुदा हँसी तँ अँहाक सिंगरहार लगैए


मरनाइ तँ एकै होइ छै सभहँक लेल

लहासे सन तँ कटल कचनार लगैए


सीसोक सीस कटल,चऽहुक चऽहु टुटल

आमक नव पल्लव तँ अंगार लगैए


आम-जाम,कुम्हर-कदीमा,लताम-सरीफा

आब तँ जकरे देखू अनचिन्हार लगैए




**** वर्ण---------16*******

छंदक जरुरति

अहाँ सभ पूछि सकैत छी जे गजल आ शेर--शाइरीक ब्लाग पर छंदक वर्णन किएक ? मुदा इ प्रश्न खाली मैथिलीए सन भाषा मे उठि सकैत अछि। जाहि भाषाक खुसरो आ गालिब सभ बिना छंदक गजल लिखैत होथि ओहि भाषा मे इ प्रश्न उठब स्वाभाविक अछि। मुदा जेना की हमरा लोकनि आब बुझि रहल छी जे गजल आ ओकर अन्य विधा बिना बहर ( छंद) के नहि लिखल जा सकैए । आ मैथिली गजलक प्रारंभिक बहरक विस्तृत अध्य्यन आ विशलेषण गजेन्द्र ठाकुर द्वारा " मैथिली गजल शास्त्र" आ हमरे द्वारा "गजलक संक्षिप्त परिचय"मे देल गेल अछि /देल जा रहल अछि। आ ओहि बहर सभ पर अमल नवपीढ़ीक गजलगो ( सुनील कु. झा, रोशन झा-नेपाल) आदि द्वारा भए रहल अछि। मुदा हमरा विचारें अरबी काव्यशास्त्र आ संस्कृतकाव्य शास्त्र मे बहुत समानता छैक। आ एही समता विषमताक अध्ययन एहि पृष्ठक माध्यमें कएल जाएत संगहि-संग हमरा लोकनि वेस्टर्न पोयटिक सेहो देबाक प्रयास मे छी। अर्थात पूर्व-मध्य आ पश्चिम तीनू एहि ब्लाग पर एकाकार हएत। ज्ञानक एहि पवित्र त्रिवेणीमे चुभकबाक लेल अहाँ सभ सादर आमंत्रित छी।



Tuesday, 26 July 2011

गजल

गोली-बम सँ डेराएल अछि मनुख सँ हेमान धरि

जानवर तँ जानवर भगवत्ती सँ भगवान धरि


नीकक लेल सोहर तँ खरापक लेल समदाउन

गाबिए रहल गबैआ सोइरी सँ असमसान धरि


इ समालोचना केकरा कहैछ छैन्ह किनको बूझल

पढ़ू, अछि सगरो पसरल निन्दा सँ गुणगान धरि


राम नामक लूटि थिक लूटि सकी तँ लूटू सदिखन

लूटि रहल छथि दक्षिणा पंडित सँ जजमान धरि


सदिखन पसरि रहल पसाही सगरो कोने-कोन

घृणा-द्वेष-तामस क्रिसमस-होली सँ रमजान धरि



**** वर्ण---------20*******


Monday, 25 July 2011

गजलक संक्षिप्त परिचय भाग-2

खण्ड-2
गजल कोना कहल जाइत छैक? आब एहि प्रश्न पर चली। सभसँ पहिने जे शाइरी सदिखन कहल जाइत छैक लिखल नहि (कारण अहाँ उपर पढ़ि चुकल छी)। आब अहाँ एकरा अरबी प्रकिया मानि मूँह नहि घोकचा लेब। हिन्दु धर्मक चारू  वेद लिखल नहि कहल-सुनल गेल छैक। आ शाइरी सेहो वेदे जकाँ कहल जइत छैक। शाइरी विशुद्ध रुपसँ उच्चारण पर निर्भर अछि (मुदा लिखित रूपक रक्षा करैत आ किछु छूट लैत)। तँए गजल कहल जाइत छैक लिखल नहि (जाहि गजलमे कोनो प्रकारक नियम शैथिल्य वा छूट नै लेल जाइए तकरा अहाँ "गजल लिखल छी" कहि सकै छियै)। मुदा विस्तृत विवरण देबासँ पहिने गजलमे प्रयुक्त परिभाषिक शब्दावलीक संक्षिप्त परिचय प्राप्त करी--

1) लघु- एकरा उर्दूमे लाम कहल जाइत छै आ मैथिलीमे ह्रस्व। ई पहिल छोट इकाइ भेल। अ, इ, उ, ऋ, लृ आदि ह्रस्व स्वर भेल।

2) दीर्घ- एकरा उर्दूमे गाफ कहल जाइत छै आ मैथिलीमे दीर्घ। आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ. अं. अः  आदि दीर्घ स्वर भेल। ई दोसर छोट इकाइ भेल। एकै शब्दमे जँ लघु केर बाद दोसरो लघु आबए तँ ओकरा दीर्घ मानि लेल जाइत छै (कोन-कोन अवस्थामे तकर विवरण आगू बहरक प्रकरणमे भेटत) छान्दस प्रक्रियामे।

(एहिठाम 1 मने ह्रस्व आ 2 मने दीर्घ भेल।( केओ-केओ दीर्घ लेल + आ लघु लेल -  केर प्रयोग करै छथि। संस्कृतमे  I  दीर्घ लेल आ U लघु लेल चिन्ह अछि।) लघु= ह्रस्व, दीर्घ =गुरु )।

3) जुज--लघु आ दीर्घकेँ आपसमे जोड़लासँ जुज बनैत छै ।

4) अज्जा- जुज केर बहुवचन अज्जा होइत छै।

5) रुक्न --कोनो मात्राक्रम केर शाब्दिक (मुदा अर्थहीन) नामकेँ रुक्न कहल जाइत छै, जेना दीर्घ-ह्रस्व-दीर्घ लेल "फाइलुन", ह्रस्व-दीर्घ-दीर्घ-दीर्घ लेल "मफाईलुन" इत्यादि। रुक्न अज्जाक बहुवचन भेल संस्कृतमे एकरा "यमाता", "जगण", "मगण" आदि सन बूझू।

6) अर्कान-- रुक्न केर बहुवचन अर्कान भेल जेना-फाइलुन + मफाईलुन...इत्यादि।

7) बहर- अर्कानक संगठित आ निश्चित रुपकेँ बहर कहल जाइत छै। एकरा मीटर सेहो कहल जाइत छै। जेना कोनो पाँतिमे फऊलुन (122) केर समान प्रयोगसँ बहरे मुतकारिब बनैत छै।

8) शेर—एक-समान रदीफ आ भिन्न-भिन्न काफियासँ सजल दू पाँति जाहिमे कोनो विचार एहन विचार जे ओही दूनू पाँतिमे शुरू भए खत्म भए जाइत हो एवं कोनो बहरसँ युक्त हो शेर कहाबैत अछि। कतेको मैथिलीक विद्वान शेर मने चरण कहै छथि मुदा संस्कृत परंपरानुसार पाद वा चरण मने पाँति भेलै।

9) मिसरा मने पाँति भेल

10) मिसरा-ए-उला --शेरक पहिल पाँतिकेँ मिसरा-ए-उला कहल जाइत छै। ई पाँति कोनो तथ्यक स्थापना करैत छै।

11) मिसरा-ए-सानी शेरक दोसर पाँतिकेँ मिसरा-ए-सानी कहल जाइत छै। अइ पाँतिसँ पहिल पाँतिक देल गेल तथ्यक समर्थन कएल जाइत छै।

12) अशआर-- शेरक बहुवचन अशआर भेल।

13) गजल-- मतला युक्त किछु शेरक संग्रह गजल कहाबैत अछि। गजलमे अलग-अलग शेर होइत छै मुदा रदीफ आ काफियाक स्वर एवं बहर एकै हइत छै।

14)  मतला- गजलक पहिल शेर जाहि महँक दूनू पाँतिमे रदीफ आ काफिया हो तकरा मतला कहल जाइत छै। बिना रदीफ बला गजलमे मतलाक दूनू पाँतिमे काफिया हेबाक चाही।

15) हुस्ने मतला- मतलाक बाद जँ दोसर मतला हो तकरा हुस्ने मतला कहल जाइत छै। बहुत लोक हुस्ने मतलाकेँ मतला-ए-सानी सेहो कहैत छथि।

16) जँ हुस्ने मतलाक बादो मतला आबए तँ ओकरा मतला-ए-सालिस कहल जाइत छै।

17) जँ मतला-ए-सालिसकेँ बाद मतला आबए तँ ओकरा मतला-ए-राबे कहल जाइत छै। ऐकेँ बाद जे मतला अबे छै तकर आर नाम सभ छै मुदा हमरा पता नै अछि।

18) रदीफ- मतलाक दुनू पाँतिमे अंतसँ उभयनिष्ठ शब्द वा शब्द समूहकेँ रदीफ कहल जाइ छै।

19) काफिया-- मने स्वर साम्य युक्त तुकान्त चाहे ओ वर्णक स्वरसाम्य हो की मात्राक स्वरसाम्य। रदीफसँ पहिने जे स्वर साम्य युक्त तुकान्त होइत छैक तकरा काफिया कहल जाइत छैक। आ ई रदीफे जकाँ गजलक हरेक शेरक (मतला बला शेरकेँ छोड़ि) दोसर पाँतिमे रदीफसँ पहिने अनिवार्य रुपें अएबाक चाही। काफिया दू प्रकारक होइत छैक (क) वर्णक स्वरसाम्य आ (ख) मात्राक स्वरसाम्य। अइसँ बेसी वर्णन आगू काफियाक खंडमे भेटत।

20) गैर मुरद्फ गजल-- जाहि गजलक मतलामे रदीफ नै हो तकरा गैर मुरद्फ गजल कहल जाइत छै। ऐ ठाम ई मोन राखू जे बिना रदीफक तँ गजल भए सकैए मुदा बिना कफिया गजल नै हएत।

21) मकता- गजलक अंतिम शेर जाहिमे शाइर अपन नाम-उपनामक प्रयोग केने होथि तकरा "मकता" कहल जाइत छै।

आब अहाँ सभ बूझि सकै छिऐ जे  ह्रस्व आ दीर्घ केर संयोगसँ जुज बनैत छै, जुजसँ अज्जा, अज्जासँ रुक्न, रुक्नसँ अर्कान, अर्कानसँ बहर, कोनो बहरक पर कहल दूटा पाँतिकेँ शेर कहल जाइत छै आ शेरक समूहकेँ गजल कहल जाइत छै।

22) एकटा कोनो गजलमे जे शेर सभसँ बेसी नीक आ प्रभावी होइत छै तकरा हासिल-ए-गजल (हासिले गजल) कहल जाइत छै।

23) तक्तीह- मात्राक गिनती करब तक्तीह भेल। ऐसँ ई पता लगाएल जाइत छै जे कोनो गजल बहरमे छै की नै।

24) वज्न -- ओजन मने भार। कोनो शब्द वा पाँतिक मात्राक्रमकेँ वज्न कहल जाइत छै।

25) अज्जा-ए-रुक्न-- कोनो पाँतिकेँ रुक्नक हिसाबसँ तोड़ला पर अज्जा-ए -रुक्न भेटैत छै। जेना—

असगर जनम लेलहुँ असगरे जी रहल

ऐ पाँतिकेँ रुक्नक हिसाबें तोड़बै तँ" मफऊलातु-मफऊलातु-मुस्तफइलुन " भेटत ( असगर जनम= मफऊलातु, लेलहुँ असग= मफऊलातु आ रे जी रहल = मुस्तफइलुन । मने ऐ पाँतिमे तीनटा अज्जा-ए-रुक्न छै। ( ई पाँति अमित मिश्रा जीक छन्हि )

26) कोनो शेरक दूनू पाँतिकेँ छह खण्डमे बाँटल जाइत छै--
a) सदर-- पहिल पाँतिक पहिल खण्डकेँ सदर कहल जाइत छै। मने पहिल पाँतिक शुरूआत सदर भेल।

b) हश्व-- सदर केर बाद बला खण्डकेँ हश्व कहल जाइत छै। हश्व मने विकास, वस्तुतः पाँतिमे निहित भावनाक विकास एही खण्डमे होइत छै।

c) अरूज-- पहिल पाँतिक अन्तिम खण्डकेँ अरूज कहल जाइत छैक। अरुज मने उत्कर्ष, वस्तुतः भावनाक उत्कर्ष एही खण्डमे हइत छै।

d) इब्तदा-- शेरक दोसर पाँतिक पहिल खण्डकेँ इब्तदा कहल जाइत छै। इब्तदा मने सेहो प्रारंभे होइत छै मुदा सदर आ इब्तदा दुन्नूमे ई अंतर छै जे सदर कोनो विचार भए सकैए मुदा सदरक समर्थनमे आएल प्रारंभकेँ इब्तदा कहल जाइत छै।

e) हश्व-- दोसर पाँतिक बिचलका भागकेँ पहिनेहे जकाँ हश्व कहल जाइत छै।

f) जरब--दोसर पाँतिक अन्तिम खण्डकेँ जरब कहल जाइत छै। जरब मने अन्त।

उदारहरण लेल अमित मिश्र जीक एकटा शेर देखू--

हमर मुस्की/सँ हुनका आ/गि लागल यौ   (1222/1222/1222)
हुनक कनखी/सँ तऽरका आ/गि लागल यौ (1222/1222/1222)

हमर मुस्की-- सदर
सँ हुनका आ --हश्व
गि लागल यौ-- अरूज
हुनक कनखी-- इब्तदा
सँ तरका आ-- हश्व
गि लागल यौ--जरब

ई तँ छल तीन रुक्न बला शेर तँ मामिला फरिछा गेल मुदा कम-बेसी रुक्न बला लेल एना मोन राखू--

1) जँ शेरक हरेक पाँतिमे दूटा रुक्न छै तँ ओहिमे हश्व नै होइत छै खाली सदर, अरूज, इब्तदा आ जरब होइत छै।
2) जँ शेरक हरेक पाँतिमे तीनटा रुक्न छै तँ पूरा शेरमे दूटा हश्व हेतै आ एक-एकटा सदर, अरूज, इब्तदा आ जरब हेतै। उपरका उदाहरण तीनेटा बला रुक्न पर अछि।

3) जँ शेरक हरेक पाँतिमे चारिटा रुक्न छै तँ पूरा शेरमे चारिटा हश्व हेतै आ एक-एकटा सदर, अरूज, इब्तदा आ जरब हेतै।

4) जँ शेरक हरेक पाँतिमे पाँचटा रुक्न छै तँ पूरा शेरमे छह टा हश्व हेतै आ एक-एकटा सदर, अरूज, इब्तदा आ जरब हेतै।

5) जँ शेरक हरेक पाँतिमे छह टा रुक्न छै तँ पूरा शेरमे आठ टा हश्व हेतै आ एक-एकटा सदर, अरूज, इब्तदा आ जरब हेतै।

एतेक देखलाक बाद ई बुझना जाइत अछि जे कोनो शेरक पहिल पाँतिक पहिल रुक्न " सदर " भेल आ अंतिम रुक्न " अरुज " भेल आ बचल बीच बला रुक्नकेँ " हश्व " कहल जाइत छै। तेनाहिते कोनो शेरक दोसर शेरक पहिल रुक्नकेँ " इब्तदा " कहल जाइत छै आ अंतिम रुक्नकेँ " जरब " आ बीचमे बचल रुक्नकेँ " हश्व " कहल जाइत छै। आब एनाहिते एक पाँतिमे जतेक रुक्न हो तकरा बाँटि सकै छी।
मुदा शेरक ई बाँट बखरा मात्र वर्णवृत बलामे नै लागत। उदाहरण लेल मानू जे अहाँ  2222112121 बला मात्रा क्रम लेलहुँ। मुदा ई मात्रा क्रम किनको  लेल 222-2112-121 भऽ सकैए आ ऐमे ओ तँ किनको लेल 22-2211-2121 सेहो भऽ सकैए । आब लोक घनचक्करमे पड़ता जे ऐमे कोन तरहँसँ छह भागमे बाँटी। तँए हमर ई स्पष्ट मानब अछि जे जा धरि मैथिलीक अपन निज मात्राक्रम नै हो ताधरि ई नियम मात्र अरबी बहरमे प्रचलित मात्राक्रम जेना122+122+122 वा 2122+2122+2122 आदि सभपर लागत। सरल वार्णिक बहरमे सेहो ई नियम नै लागत।

27) शाइरी- अशआर कहबाक प्रक्रियाकेँ शाइरी कहल जाइत छै।

28) शाइर-- शाइरी करए बलाकेँ शाइर कहल जाइत छै। हिंदीमे शायर कहल जाइत छै मुदा मूल रूपसँ "शाइर" छै मोन पाड़ू फिल्म “कभी-कभी” केर गीत "मैं पल दो पल का शाइर हूँ"।

29) मोशायरा--जतए शाइर सामूहिक रूपें श्रोताक सामने शाइरी कहैत हो ओकरा मोशायरा कहल जाइत छै। मोशाइरामे गजल वा किछु कहबासँ पहिने मंचपति केर आज्ञा लेल जाइत छै आ तकर बाद शाइर श्रोता वर्गकेँ कहै छथिन " समाद फरमाएँ"| "समाद फरमाएँ" केर मैथिलीकरण "सुनल जाए" रूपमे भऽ सकैए। श्रोता वर्गसँ इरशाद-इरशाद केर ध्वनि संग शाइर अपन रचनाक पाठ शुरु करै छथि। बेसी काल शाइर जखन पहिल पाँति पढ़ै छै तखन दोसर पाँति कहबाक लेल "इरशाद-इरशाद" कहल जाइत छै आ दोसर पाँति पूरा होइते बाह-बाह। इरशाद केर मैथिलीकरण "जरूर" भऽ सकैए ( ओना जरूर सेहो अरबिए समूहक शब्द छै)ऐठाम ई कहब बेसी जरूरी जे उर्दू सभहक मोशयारामे काफिया खत्म होइते बाह-बाही शुरू भऽ जाइत छै आ तै लेल किछु मैथिल श्रोताकेँ सिकाइत छनि जे पूरा नै सुनि पेलहुँ। मुदा धेआन देबाक बात ई छै जे काफियाक बाद तँ रदीफ होइ छै जे की पूरा गजलमे एकै रहैत छै तँए काफियाक बादे बाह-बाही ओ सभ शुरू कऽ दैत छै। मैथिलीमे एखन ऐ परंपराकेँ आबऽमे किछु दिन समय लगतै।

30) तहत आ तरन्नुम--मोशायरामे शाइर दू रूपें शाइरी पढ़ैत छथि। पहिल भेल वाचन क्रिया द्वारा जेना कविता सुनाएल जाइत छै आ दोसर भेल गायन द्वारा। वाचन प्रक्रियाकेँ " तहत " कहल जाइत छै आ गायन प्रक्रियाकेँ " तरन्नुम कहल जाइत छै। ओना भारतमे सभसँ पहिने ॠगवेद भेलै जकर पाठ कए जाइत छलै मने तहत जकाँ बादमे सामवेद बनलै मने गेबा योग्य मने तरन्नुम। सामवेदक अनुयायी सभ ॠगवेदक अनुयायी सभकेँ बेंग जकाँ टरटराइत कहि आलोचना सेहो केने छथिन्ह। मने तहत बला तहतकेँ नीक मानै छथि आ तरन्नुम बला तरन्नुमकेँ। मुदा हमर स्पष्ट मानब अछि जे मानव सदिखन विविधता चाहै छथि। मानव अपन मनोस्थितिकेँ हिसाबें केखनो तहत बलापर बाह-बाह करै छथि तँ केखनो तरन्नुम बलापर । कहबाक मतलब जे एकै मानव मनोस्थिति बदलैत देरी पाठ भिन्नता सेहो चाहै छै तँए तहत आ तरन्नुम केर झगड़ा हमरा हिसाबे बेकार। लक्ष्य मात्र रस, आनंद, परमानंद… जखन शाइर मोशायरामे अपन शेर सभ प्रस्तुत करै छथि तखन दू तरहँक प्रतिक्रिया होइत छै श्रोता मध्य। पहिल तँ जँ श्रोताकेँ शेर नै नीक लगलै तँ ओ चुपचाप सूनि लै छथि आ दोसर जे जँ श्रोताकेँ शेर नीक लगलै तँ ओ "बाह-बाह-बाह-बाह" शब्द समूहसँ शाइरक मनोबल बढ़बै छथि। ओना ऐठाम ई कहब बेजाए नै जे उर्दू गजलक नीक-नीक मोशायरा सभमे तालीक प्रचलन अछि मुदा पारंपरिक तौरपर बाह-बाह छै। ऐठाम आर किछु गप्प जखन मोशायरामे नात वा मनकतब कहल जाइत छै तखन ताली आ बाह-बाह पूरा-पूरी निषिद्ध भऽ जाइत आ तकरा बदलामे सुभान-अल्लाह केर उच्चारण होइत छै। ऐठाम ईहो बूझबाक गप्प थिक जे मोशयरामे जखन नात पढ़ल जाइ छै तखन शाइरकेँ जँ श्रोता दिससँ पाइ वा अन्य धन भेटै तँ ओ मान्य छै आ ओइमे कोनो आपत्ति नै मुदा गजल आ आन विधा कालमे कोनो शाइर एहन पाइ वा धन नै स्वीकारथि। जँ स्वीकारता तँ ई नियमक विरुद्ध मानल जाइत छै। जे शेर नीक लागए आ अहाँ ओकरा दोबारा सुनए चाहैत छी तँ ताहि लेल " फेरसँ कहू" एहन वाक्यक प्रयोग करू। उर्दूमे एकरा "मुकर्रर " कहल जाइत छै मुदा मैथिलीमे" फेरसँ कहू" एहन वाक्यक प्रयोग हेतै। "दोसर बेर कहियौ" वा " दोबारा कहियौ" एनाहुतो कहल जा सकैए।
31) इल्मे अरूज- मने अरबी छंद शास्त्र

32) अरूजी- मने अरबी छंद शास्त्रक ज्ञाता।

33) इस्लाह गुरु-शिष्य परंपराक अंतर्गत शाइरी सिखनाइ। केखनो काल कोनो गजलकेँ अरूजीसँ ठीक कराएबकेँ इस्लाह सेहो कहल जाइत छै। ओना मैथिलीमे साहित्यकार सभ अपन ज्ञानक पोटरी संदूकमे बान्हि कऽ धऽ दैत छथि जे कहीं हमर ज्ञान दोसर लग नै चलि जाए। कुंठा एतेक जे ओ अपन संतानोकेँ ऐ ज्ञानसँ दूर राखै छथि। मैथिलीक उल्टा इस्लाह परंपरामे बाप द्वारा गर्वपूर्वक संतान सभकेँ शाइरी सिखाएल जाइत छलै आ छै।

34) सौती मोशायरा- ई मोशायरा साधारण मोशायरासँ अलग अछि। पहिने बूझी जे ई सौती मोशयरा की थिक। अरबी-फारसी-उर्दूमे शाइर सभकेँ बहरक ट्रेनिंग लेल ई सौती मोशायरा केर आयोजन कएल जाइत छै। ऐ मोशायरामे जे गजल देल जाइत छै ताहिमे अर्थकेँ कोनो प्रधानता नै रहै छै बस खाली बहर, काफिया आ रदीफ रहबाक चाही। जेना की एकटा उदाहरण देखू---

उठैए चलैए खसैए तँ ओ
हँसैए मरैए गबैए तँ ओ

छलै आब बुड़िबक बहुत सभ मुदा
हुनक पाँचटा सन लगैए तँ ओ

पहिने ऐ दूटा शेरक मात्रा क्रम देखी ई मात्रा क्रम अछि लघु-दीर्घ-दीर्घ-लघु-दीर्घ-दीर्घ-लघु-दीर्घ
आब कने पहिल शेरकेँ देखू कोनो खास अर्थ नै निकलि रहल छै ऐ शेरक। तेनाहिते दोसर शेर तँ आर गड़बड़ अछि। मुदा इएह गड़बड़ी सौती मोशायरा लेल चाही। जँ सौती मोशायरामे एकौटा एहन शेर आबि गेल जकर कोनो सार्थक मतलब निकलि रहल छै तँ ओ सौती मोशायरा लेल उपयुक्त नै। मुदा ऐठाम ई धेआन राखब बेसी जरूरी जे मैथिलीमे बाल गजल सेहो अछि आ बाल गजलमे किछु शेर एहनो भऽ सकै छै जकर कोनो अर्थ नै होइक। कारण बच्चाकेँ अर्थसँ मतलब नै रहै छै। देखने हेबै जे माए वा आन कोनो संबंधी बच्चाकेँ उठा कऽ "अर्रररररररररररररररररररररर" बजै छै आ बच्चा खुश भऽ कऽ हँसै छै तँए बाल गजलमे खूब लय ओ आंतरिक सुआद चाही।

35) तरही मोशायरा-- ई एक तरहँक आयोजन थिक जैमे कोनो प्रसिद्ध शाइरक कोनो गजलक एकटा कोनो पाँति दऽ देल जाइत छै। रदीफ ओ काफिया पुरने गजल जकाँ रहबाक चाही। आब आन गजलकार सभ एही हिसाबसँ गजल लीखि मोशायरामे प्रस्तुत करै छथि। जे पाँति देल जाइत छै तकरा " तरह-ए-मिसरा" कहल जाइत छै। तरह-ए-मिसरा केर प्रयोग मतलामे नै हेबाक चाही मने मतला नव गजलकारक अपने मूल रहै छै। सौती मोशायराक बाद गजलकारक ट्रेनिंग लेल तरही मोशायरा बहुत प्रभावी होइत छै। अनिचिन्हार आखरपर प्रस्तुत " गजलक इस्कूल" तरही मोशायरासँ अलग अछि। तरही मोशायरामे देल पाँतिक काफिया रदीफकेँ ओइ गजलक "जमीन" कहल जाइत छै। जँ अहाँ कोनो शाइरक काफिया रदीफ आ बहर लऽ कऽ नव गजल कहबै तँ ओकरा अमुक गजलक जमीनपर कहल गजल कहल जाइत छै।

आब उपरकामे सँ किछु प्रमुख पारिभाषिक शब्दावलीक विस्तृत विवरण देखी—
जेना की अहाँ सभ बुझैत छी गजल किछु शेरक संग्रह होइत छैक (कमसँ कम पाँच आ बेसीसँ बेसी कतबो)। किछु लोकक मोताबिक जँ सत्रहसँ बेसी शेर देबाक हुअए तँ फेरसँ एकटा मतला कहू आ शेर कहैत चलू। आ एना दूगजला, तीनगजला, चौगजला होइत रहत। वर्तमानमे मात्र पाँच, छह, या सात शेर बला गजल बेसी प्रचलित अछि। ओना गजलक संबंधमे ईहो धेआन राखब जरूरी जे प्राचीन गजलगो गजलमे ताक (विषम) संख्या रखैत छलाह जेना 5, 7,9 आदि। एकर कारण ई कहल जाइत अछि जे पहिने गजलक विषय विरह युक्त प्रेम छल तँए जुफ़्त (सम) के छोड़ि ताक (विषम) के प्राथमिकता देल जाइत छलै। मुदा आधुनिक गजलगो एहि रुढ़िके तोड़ि देने छथि। आब ई बूझी जे शेर की थिक। शेर सदिखन दू पाँतिक होइत छैक आ शाइर जे कहए चाहैत अछि ओ दुइये पाँति मे खत्म भए जेबाक चाही, अन्यथा ओ गजलक लेल उपयुक्त नहि। आ एहन-एहन गजल जकर हरेक शेरमे अलग-अलग बात कहल गेल हो ओकरा "गैर मुसल्सल" गजल कहल जाइत छैक। किछु गजल एहनो होइत छैक जकर हरेक शेर एकै विषय पर रहैत छैक। एहि प्रकारक गजलके "मुसल्सल" गजल कहल जाइत छैक, मुदा "मुसल्सल" गजल बेसी नीक नहि मानल जाइत छै। उर्दूमे पाँतिकेँ "मिसरा" कहल जाइत छैक। शेरक पहिल पाँतिकेँ "मिसरा-ए-उला" आ दोसर पाँतिकेँ "मिसरा-ए-सानी" कहल जाइत छैक।
आब शेरक किछु उदाहरण देखू---

अला हुब्बी बेसेहने की फ़ सबहीना
वला तब्की ख़मूरल अन्दरीना

अर्थ रे साकी सुन, पेआला उठा कए हमरा एतेक भोरक बचल शराबक पेआला दे की जाहिसँ अन्दरीना ( अन्दरीना सीरीया देशक एकटा जगहक नाम अछि)मे एकौ ठोप शराब नहि बचै।
(भाषा- अरबी, शाइर उमरु-बिन-कुलसूम अत़गलबी)

अगर आ तुर्के शीराजी बदस्त आरद दिलेमारा
बखाले हिन्दुवश बख़शम समरकन्दो बुखारा रा

अर्थ जँ ओ सुन्दरि महबूब हमर करेज चोरा लेथि तँ हम हुनकर एकटा तिलबा पर समरकंद आ बुखारा सनसन देश हुनका दए देबैन्ह।
(भाषा- फारसी, शाइर हाफ़िज शीराजी)

उनके आ जाने से आ जाती है मुँह पर रौनक
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है

(भाषा- उर्दू, शाइर गालिब)

बाट तकैत दिन बीति जाएत बुझलिऐ
आस तकैत जिनगी बिताएत बुझलिऐ


(भाषा- मैथिली, शाइर गजेन्द्र ठाकुर)

ओ बिसरि गेलै किए
प्रेम हेरेलै किए

(भाषा-मैथिली, शाइर अमित मिश्र)

हमर मुस्कीक तर झाँपल करेजक दर्द देखलक नहि इ जमाना।
सिनेहक चोट मारूक छल पीडा जकर बूझलक नहि इ जमाना।

(भाषा- मैथिली, शाइर ओमप्रकाश)

बेदरदिया नहि दरदिया जानै हमर
टाकासँ जुल्मी प्रेम केँ गानै हमर

(भाषा- मैथिली, शाइर जगदानंद झा " मनु")

एक झोंका पवनकेँ गुजरि गेल देखू
मोन मारल सिनेहक सिहरि गेल देखू

(भाषा- मैथिली, शाइर राजीव रंजन मिश्र)

न कम सम बहुत नहि समावेश चाही
सधेने चली बेश ऋण शेष चाही

(भाषा- मैथिली, शाइर विजय नाथ झा)

टूटल छी तँइ गजल कहै छी
भूखल छी तँइ गजल कहै छी

(भाषा- मैथिली, शाइर जगदीश चंद्र ठाकुर अनिल)


रहू कमल सन सदा सुवासित
बनू मनोहर हवा सुवासित

(भाषा- मैथिली, शाइर योगानंद हीरा)


जँ उपरका शेर सभके देखबै तँ पता लागत जे सभ दुइये पाँतिके छैक आ जे बात कहल गेल छैक से पूरा-पूरी छैक। संगे-संग दूनू पाँतिक छंद (मात्राक्रम) एकै छै। इएह भेल शेर। गजलसँ जुड़ल किछु आर पारिभाषिक शब्द आगू  देल जा रहल अछि। बिना एकरा बुझने गजल नहि बुझल जा सकैए।

Sunday, 24 July 2011

गजल


बाट तकैत दिन बीति जाएत बुझलिऐ
आस तकैत जिनगी बिताएत बुझलिऐ

आफन तोड़ब अहाँ सुनबै तखन की की
बीतत बेर उदासी कहाएत बुझलिऐ


ऊँह ई टीस उठल फेर वेदना सहै
छी
आदति बनल बनि बुझाएत बुझलिऐ

सहबाक शक्ति जे खतम भेल काल्हियेसँ
सम्वेदना अदौसँ जँ हराएत बुझलिऐ


गढ़ुआरि छी पहिने दर्द नै छल कनेको
दुख सहैक सुभावे कहाएत बुझलिऐ

करऽ पड़त मेहनति तिगुना कैक गुना
गोनरिपर बैसल सोचाएत बुझलिऐ

गभछब ऐ मालक जिरतिआ कहबैत
गोरहन्नी लऽ खपड़िआ गाएत बुझलिऐ

गतायात बन्न, भाव गोपलखत्ता गेलैए
गच्छ बना कऽ गोधियाँ बनाएत बुझलिऐ
ऐरावतक गोधिआँ बनत के असगर
हाथी-हेंज बिसरत हराएत बुझलिऐ
तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों