Thursday, 5 July 2018

गजल

जत्ते बड़का स्वामी छै
सभहँक नाम हरामी छै

हमहूँ ओझा गुन्नी छी
ओहो अंतरयामी छै

ई नेह सिनेहक रहने
बड़ बेसी बदनामी छै

ओ अपने मोने सस्ता
अपने मोने दामी छै

दू दिनक नामी कलामी
तकर बाद गुमनामी छै

सभ पाँतिमे  22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों