शनिवार, 11 जुलाई 2020

गजल

गजल

अहाँ  बिना  सिन्दुर  पिठार   की  हेतै
अहाँ  बिना  पावनि  तिहार   की  हेतै

अहीं  हमर  छी  देवता   अहीं  स्वामी
अहाँ  बिना  जीवन  सकार   की  हेतै

भरोस नै अछि जे कखन अहाँ आयब
अहाँ  बिना  बिन्दी  कपाड़    की  हेतै

कते    करी   असगर   पुजाक  तैयारी
अहाँ   बिना   सौंसे   हकार   की  हेतै

बहुत  फरल अछि आम आउ ने गामे
अहाँ   बिना   फारा  अचार   की  हेतै

               ✍🏼 अभिलाष ठाकुर
              
मात्राक्रम अछि 1212-2212-1222
मुफाइलुन-मुस्तफइलुन-मुफाईलुन


शुक्रवार, 10 जुलाई 2020

गजल

भुखिया दुखिया भूखे मरतै  सैह कहू ने
कोठीक  धान धयले रहतै  सैह कहू ने

एना मे गरीब गुरबा सब  मारल जेतै
हाकिम सब अप्पन घर भरतै सैह कहू ने

एकटा कोरोना सँ जिनगी  तबाह  भेलै
दोसर धरतै तब की हेतै सैह कहू ने

नानी धन बइमानी धन की रहलै ककरो
कफन छोड़ि किछुओ नहि जड़तै  सैह कहू ने

ढउआ तँ उड़िया रहल छै हावामे 'लाला'
जे छै थितगर वैह पकड़तै सैह कहू ने

2222-2222-2222 मात्रा क्रम बहरे मीर पर आधारित सुझाव सादर आमंत्रित

अरुण लाल दास
01 जून ,2020

मंगलवार, 7 जुलाई 2020

गजल

कहबौ तोरा अपने घरक बात
लगतौ तोरा अपने घरक बात

अइ खाली खाली घरमे सदिखन
तकतौ तोरा अपने घरक बात

काशी केर ठक सभ आब गेलै
ठकतौ तोरा अपने घरक बात

घुमा फिरा कऽ पहिल बलिदान लेल
चुनतौ तोरा अपने घरक बात

बेरा बेरी संदेहक आँखिसँ
पढ़तौ तोरा अपने घरक बात

सभ पाँतिमे 22-22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

सोमवार, 29 जून 2020

गजल

करिते रहलै मारि बात
धरिते रहलै डारि पात

हुनकर हँसी चूड़ा दही
हुनकर तामस दूध भात

एक दू तीन चारि पाँच
केने छै अनेको घात

कनी सुगंध कनी अवाज
पसरि गेलै चारू कात

बिच्चे बैसल धनी मनी
बाँकी सभ तँ काते कात

सभ पाँतिमे 22-22-22-2  मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

बुधवार, 24 जून 2020

गजल

बाहर बाहर जोड़ल भतार
भितरे भीतर टूटल भतार

छै मृगतृष्णा सन के विकास
इम्हर उम्हर दौड़ल भतार 

इच्छा माने पूरा समान 
किम्हर जेतै परिकल भतार

लेने हेतै सभटा हिसाब
चुप्पे रहि रहि कानल भतार

हमरा आने देलक समाद
अपने लोकक दागल भतार

सभ पाँतिमे 22-22-22-121 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।


सोमवार, 22 जून 2020

गजल

पानि कादो थाल की छै
बोनि उपजा टाल की छै

प्रश्न ईहो पूछि देलक
आर कहियौ हाल की छै

साधि लेलक दर्द सभटा 
राग सुर आ  ताल की छै

घीचि लेतै प्राण सभहक
जीह की छै खाल की छै

गेल सौतिन फेर पोखरि
माछ पुछतै जाल की छै


सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि।

गुरुवार, 18 जून 2020

गजल

जनबल धनबल छलबल मोन
कत्ते सहतै निर्बल मोन

सदिखन चाहै पापक ओट
सुंदर निश्छल निर्मल मोन

गर्जन तर्जन वर्जन सूनि
चुप्पे रहलै कलबल मोन

हमरे हिस्सा थाकल देह
हमरे हिस्सा चनकल मोन

अनका खातिर अनचिन्हार
हमरा खातिर दगधल मोन

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

सोमवार, 15 जून 2020

गजल

भूमिपर अघोषित आपदा छै
आदमीसँ बेसी देवता छै

मोक्ष लेल साधल मोहमाया
साधनासँ बेसी वासना छै 

मोन मरि कऽ एलै देह खातरि
जीबि जाइ अतबे कामना छै

रत्न सागरक मंथनसँ भेटल 
ई उठा पटक संभावना छै

मोनमे बसल छै मोन हुनकर
संग लेल ई प्रस्तावना छै 

सभ पाँतिमे 212-122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

शनिवार, 13 जून 2020

गजल

हरी नाम सुमिरन हरी नाम कीर्तन
हरी नाम पूजन हरी नाम वंदन

हरी नाम माथो हरी नाम चंदन
हरी नाम मूँहो हरी नाम दर्पण

हरी नाम बरतन हरी नाम भोजन
हरी नाम देहो हरी नाम पोषण

हरी नाम धरती हरी नाम मेघन 
हरी नाम गर्मी हरी नाम शीतन

हरी नाम  बाहर हरी नाम आँगन
हरी नाम दुनियाँ हरी नाम जनजन

सभ पाँतिमे 122-122-122-122 मात्राक्रम अछि। जनसाधारण लेल हरि केर उच्चारण हरी कएल गेल अछि। सभ भारतीय मानसमे सदासँ उपस्थित अछि हम एकरा मात्र गजलक हिसाबसँ रखलहुँ अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

शुक्रवार, 12 जून 2020

गजल

मनोबल मनोरम बना देत निश्चित
मनोकामना सभ पुरा देत निश्चित

नियम ई सदा मोन राखब अहाँ हम 
अपेक्षा उपेक्षित बना देत निश्चित

कते रोकि रखतै कते दाबि सकतै
बहल नोर दुनियाँ जरा देत निश्चित

कनी आचरण ठीक रखबै तँ अनुभव 
गजल नीक सुंदर कहा देत निश्चित

कियो आइ पूजा करैए मुदा ओ 
विसर्जन कऽ जल्दी भसा देत निश्चित

सभ पाँतिमे 122-122-122-122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

बुधवार, 10 जून 2020

गजल

पुछारी करा गेल हेतै
बुढ़ारी बना गेल हेतै

अचानक मिझा घूर भागल
जरूरे दगा गेल हेतै

कनी देखलहुँ बाट सरगक
दिबारी जरा गेल हेतै

अबैए गमक किछु अजीबे
कि सुइटर बुना गेल हेतै

विलंबित रहल ताल सभहक
कहीं द्रुत गबा गेल हेतै

सभ पाँतिमे 122-122-122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

मंगलवार, 9 जून 2020

गजल

सजल नयन मिथिलेश हो मालिक
कमल नयन अवधेश हो मालिक

हुनक कहब छनि जे ई सभ हमरे
हमर बचल कुन देश हो मालिक

दशा दिशा के तय करत अहि ठाँ
सड़ल गलल परिवेश हो मालिक

कनी मनी छनि आचरण हुनकर
बहुत बहुत उपदेश हो मालिक

नवे नवे अफसर नवे भाषण
सुनल सुनल संदेश हो मालिक

सभ पाँतिमे मात्राक्रम 12-1222-1222 अछि।  सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

गजल

गतिहत संगत झंझट डेरा
मतिहत पंगत अगबे फेरा

अपने पुरखा कहने रहथिन
करनी जनिअह मरनी बेरा

एना मरतै आलू कोबी
ओना मरतै झिमनी घेरा

बहुते नखरा राँगल जंतुक
शेरक मुद्रा बैसल शेरा  

एकै पेटक तीनू बच्चा
सरदर तख्ता खुहरी चेरा

सभ पाँतिमे 22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आममत्रित अछि।

सोमवार, 8 जून 2020

गजल

घड़ी दू घड़ी जे बिता गेल भमरा
बहुत बात हमरा सिखा गेल भमरा 

गमक लीखि देबै मधुर रस परागो
जदी गाछ फूलक पटा गेल भमरा 

निमाहब कठिन छै हलाहल समाने
अपन आन खातिर बिका गेल भमरा 

हमर टीस लेलक अपन टीस देलक
तकर बाद किम्हर नुका गेल भमरा

रहै दाग पुरना मुदा दर्द नवके
हवन कुंड लग सकपका गेल भमरा 

सभ पाँतिमे 122-122-122-122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

शनिवार, 6 जून 2020

गजल

इष्ट सीता इष्ट राघव
इष्ट राधा इष्ट माधव

चैत वैशाखक युगल छवि 
अष्टमी छै मास भादव 

आस देलनि रास रचलनि
मुग्ध देवो मुग्ध मानव

नाम रावण नाम कंसे 
नष्ट केलनि दुष्ट दानव 

हित मनुष्यक चाहलथि ओ
एक रघुकुल एक यादव  

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।  

गजल

आइ जे इतिहास हेतै
काल्हि से उग्रास हेतै

पाइ बिन अतिचार मानू
पाइ बिन मलमास हेतै

की जरूरी हारि मानी
आस रखने रास हेतै

बूझि गेलहुँ बात हुनकर
दोसरे सभ खास हेतै

छल अभयमुद्रा बहुत दिन
आब ओ संत्रास हेतै

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।  

शुक्रवार, 5 जून 2020

गजल

अस्त्र हुनकर चालबाजी
शस्त्र हुनकर जालसाजी

डेग डेगक आस रखने
लोक खातिर वेद राजी

चुप भऽ देखै अंग दहिना
वाम खेलै तीख बाजी

सैंत बैसल छी हँसी हम
खूब उछलै नोर पाजी

खूब बंटाधार हेतै
खेल मुकुटक ताज ताजी

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

गुरुवार, 4 जून 2020

गजल

मोन बनलै शांतिवादी
पेट बनबै क्रांतिकारी

एक राजा एक रानी
बाद बाँकी दास दासी 

ई जमा हमरे जमा अछि
आँखि भारी पीठ भारी

की कऽ सकतै से तँ कहियौ
दोस्त बनलै काठ आरी

भाग ओकर एहने छै
एकभुक्ते एकचारी

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

बुधवार, 3 जून 2020

गजल

शत्रु सम अभ्यास ताकै
लाशमे उल्लास ताकै

बीचमे छै मोह माया
कातमे संन्यास ताकै

बेचलक जे माघ फागुन
घुरि कऽ ओ मधुमास ताकै

आर पारक खेल हेतै
नित नवल विश्वास ताकै

जानि ने की बूझि दुनियाँ
वास्तविक आभास ताकै

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

मंगलवार, 2 जून 2020

गजल

लंफ लंफा संगमे नै
ढेर शंका संगमे नै

आपरूपी इष्ट भेटल
धैर्य हमरा संगमे नै

ई उपासे ओ उपासे
पैंट अंगा संगमे नै

पाइ कोठा फ्रीज सोफा
बीत बिग्घा संगमे नै

काँट हँसलै देखि अतबे 
फूल भमरा संगमे नै
 
बोझ परहक आँटी सनक ई शेर--

देह पूरा ठीक लेकिन
रीढ़ हमरा संगमे नै

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

शनिवार, 30 मई 2020

© कुन्दन कुमार कर्ण


शुक्रवार, 29 मई 2020

गजल

पानि मँगिते रौद धधकल
रौद मँगिते पानि बरसल 

मोन बुझिते देह उमकल
देह छुबिते मोन बहसल

पाँच बर्खक आस अतबे
धोधि उपजल पेट अफरल

चास केहन बास केहन
फूल रोपल काँट उपजल

ई समय केहन समय छै
प्राणमे छै प्राण अटकल

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

मंगलवार, 26 मई 2020

गजल

डोकहर वासिनी ग्रामिणी भगवती 
दुखहरी सुखकरी राज राजेश्वरी

मातृदेवी युगल उर्वरी कामिनी
सुंदरी माधुरी काम कामेश्वरी

शालिनी मालिनी शेखरी रागिनी
रुचिकरी शुचिकरी नाद नादेश्वरी

धर्मदा अर्थदा कामदा मोक्षदा 
जयकरी शुभकरी योग योगेश्वरी

कंकिनी काकिनी कोटरी साधिके
शंकरी सहचरी सर्व सर्वेश्वरी

सभ पाँतिमे 212-212-212-212 मात्राक्रम अछि।

शुक्रवार, 22 मई 2020

गजल

माथा छाती हाथो माछ
रसमे डूबल अधरो माछ 

देखू भेलै केहन भाग
पोखरि कूदै तरलो माछ

अगड़ा पिछड़ा चक्कर चालि
पोठी बनतै रहुओ माछ

अनकर पोखरि कत्ते आस
देलक धोखा अपनो माछ 

केहन केहन हेतै जाल
से सभ जानै नवको माछ

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

गुरुवार, 21 मई 2020

हलिउड/इङ्गलिश फिल्मक गीतमे मिटर (छन्द/बहर)

मात्र हिन्दी फिल्ममे नै इङ्गलिश फिल्मी गीत सबमे सेहो मिटरक भरपूर प्रयोग भेल छै । निच्चा देखू हलिउडक सुपर डुपर हिट फिल्मक अतिलोकप्रिय गीत जे कि गीतक दुनियामे बहुतो रेकर्ड कायम करैत रेकर्डिङ्ग इन्डस्ट्री एशोसियन अफ अमेरिकाद्वारा शताब्दीक गीत(song of the century) मे समावेश भेल छै । एहि गीतक मुखडा आ मुखडाक पैटर्न जतए दोहराएल छै ततए एक किसिमक(6-6-8-6-6-8) आओर अन्तरा आ अन्तराक पैटर्न जतए दोहराएल छै ततए एक किसिमक(7-9-7-6-8) शब्दांश संख्या(syllable count), अर्थात मुखडा आ अन्तरामे दू अलत-अलग मिटरक प्रयोग भेल छै ।

Movie: Titanic (1997)
Lyrics: Will Jennings
Vocal: Celine Dion
Music: James Horner

Every night in my dreams
I see you, I feel you,
That is how I know you go on
Far across the distance
And spaces between us
You have come to show you go on

Near, far, wherever you are
I believe that the heart does go on
Once more you open the door
And you're here in my heart
And my heart will go on and on

Love can touch us one time
And last for a lifetime
And never let go till we're one
Love was when I loved you
One true time I hold to
In my life we'll always go on

Near, far, wherever you are
I believe that the heart does go on
Once more you open the door
And you're here in my heart
And my heart will go on and on

You're here, there's nothing I fear,
And I know that my heart will go on
We'll stay forever this way
You are safe in my heart
And my heart will go on and on


Scansion:

6-6-8-6-6-8
Eve/ ry/ night/ in/ my/ dre/ams…………………..…….6 syllables
I/ see/ you/ I/ feel/ you………………....………………….6 syllables
That/ is/ how/ I/ know/ you/ go/ on………………...8 syllables
Far/ ac/ ross/ the/ dis/ tance…………………………....6 syllables
And/ spa/ ces/ bet/ ween/ us……………………...…...6 syllables
You/ have/ come/ to/ show/ you/ go/ .…..……….8 syllables


7-9-7-6-8
Near/ far / wher/ ev/ er/ you/ are…………………..….7 syllables
I / be / lieve / that / the / heart/ does/ go/ on…..9 syllables
Once/ more/ you/ o/ pen/ the/ door…………………7 syllables
And/ you're/ here/ in/ my/ heart……………………….6 syllables
And /my/ heart/ will/ go/ on/ and/ on…………..….8 syllables
6-6-8-6-6-8
Love/ can/ touch/ us/ one/ time…………………..……6 syllables
And/ last/ for/ a/ life/ time…………..…………………….6 syllables
And/ ne/ ver/ let/ go/ till/ we're/ one….…………….8 syllables
Love/ was/ when/ I/ loved/ you…………………………6 syllables
One/ true/ time/ I/ hold/ to……………………………….6 syllables
In/ my/ life/ we'll/ al/ ways/ go/ on……………………8 syllables


7-9-7-6-8
Near/ far / wher/ ev/ er/ you/ are……………………...7 syllables
I / be / lieve / that / the / heart/ does/ go/ on…..9 syllables
Once/ more/ you/ o/ pen/ the/ door…………………7 syllables
And/ you're/ here/ in/ my/ heart……………………….6 syllables
And /my/ heart/ will/ go/ on/ and/ on……………...8 syllables


7-9-7-6-8
You're/ here/ there's/ no/ thing/ I/ fear……………..7 syllables
And/ I/ know/ that/ my/ heart/ will/ go/ on……...9 syllables
We'll/ stay/ for/ ev/ er/ this/ way…………………….…7 syllables
You/ are/ safe/ in/ my/ heart………………………….....6 syllables
And/ my/ heart/ will/ go/ on/ and/ on…………...…8 syllables

हिन्दी फिल्मक गीतमे बहर (छन्द/Meter)

फिल्म: शिकारी (2000)
शाइर: समीर
गायक: कुमार सानु
संगीतकार: आदेश श्रीवास्तव
मुख्य कलाकारः गोविन्दा, करिशमा कपुर

बहर-ए-मुतकारिब मुसम्मन सालिम (122 x 4)

बहुत ख़ूबसूरत गज़ल लिख रहा हूँ
तुम्हे देखकर आजकल लिख रहा हूँ

मिले कब कहाँ, कितने लम्हे गुजारे
मैं गिन गिन के वो सारे पल लिख रहा हूँ

तुम्हारे जवां ख़ूबसूरत बदन को
तराशा हुआ इक महल लिख रहा हूँ

न पूछों मेरी बेकरारी का आलम
मैं रातों को करवट बदल लिख रहा हूँ

तक्तीअः

बहुत ख़ू / बसूरत / गज़ल लिख / रहा हूँ
122 / 122 / 122 / 122
तुम्हे दे / खकर आ / जकल लिख / रहा हूँ
122 / 122 / 122 / 122

मिले कब / कहाँ कित / ने लम्हे / गुजारे
122 / 122 / 122 / 122
मैं गिन गिन / के वो सा / रे पल लिख / रहा हूँ
122 / 122 / 122 / 122

तुम्हारे / जवां ख़ू / बसूरत / बदन को
122 / 122 / 122 / 122
तराशा / हुआ इक / महल लिख / रहा हूँ
122 / 122 / 122 / 122

न पूछों / मेरी बे / करारी / का आलम
122 / 122 / 122 / 122
मैं रातों / को करवट / बदल लिख / रहा हूँ
122 / 122 / 122 / 122

हिन्दी फिल्मक गीतमे बहर (छन्द/Meter)


फिल्म: आवारगी (1990)
गीतकार: आनंद बक्षी
गायक: गुलाम अली
संगीतकार: अनु मलिक

मात्राक्रमः 1222-1222-1222-1222 (बहर-ए-हजज)

चमकते चाँद को टूटा हुआ तारा बना डाला
मेरी आवारगी ने मुझको आवारा बना डाला

बड़ा दिलकश बड़ा रंगीन हैं ये शहर कहते हैं
यहाँ पर हैं हज़ारों घर घरों में लोग रहते हैं
मुझे इस शहर ने गलियों का बंजारा बना डाला
चमकते चाँद को टूटा.........

मैं इस दुनिया को अक्सर देखकर हैरान होता हूँ
न मुझसे बन सका छोटा सा घर दिन रात रोता हूँ
खुदाया तूं ने कैसे ये जहां सारा बना डाला
चमकते चाँद को टूटा.........

मेरे मालिक मेरा दिल क्यूँ तड़पता है सुलगता है
तेरी मर्ज़ी तेरी मर्ज़ी पे किसका ज़ोर चलता है
किसी को गुल किसी को तूने अंगारा बना डाला
चमकते चाँद को टूटा.........

यही आग़ाज़ था मेरा यही अंजाम होना था
मुझे बरबाद होना था मुझे नाकाम होना था
मुझे तक़दीर ने तक़दीर का मारा बना डाला
चमकते चाँद को टूटा.........

तक्तीअः

चमकते चाँ/द को टूटा/ हुआ तारा/ बना डाला
122 2/1 2 22/ 12 22/12 22
मेरी आवा/रगी ने मुझ/को आवारा/ बना डाला
12 22/12 2 2/ 1 222/12 22

बड़ा दिलकश/ बड़ा रंगी/न हैं ये शह/र कहते हैं
12 22/12 22/ 1 2 2 2/1 22 2
यहाँ पर हैं/ हज़ारों घर/ घरों में लो/ग रहते हैं
12 2 2/122 2/ 12 2 2/1 22 2
मुझे इस शह/र ने गलियों/ का बंजारा/ बना डाला
12 2 2/1 2 22/ 1 222/12 22

मैं इस दुनिया/ को अक्सर दे/खकर हैरा/न होता हूँ
1 2 22/1 22 2/ 12 22/12 22
न मुझसे बन/ सका छोटा/ सा घर दिन रा/त रोता हूँ
1 22 2/12 22/ 1 2 2 2/1 22 2
खुदाया तूँ/ने कैसे ये/ जहां सारा/ बना डाला
122 2/1 22 2/ 12 22/12 22

मेरे मालिक/ मेरा दिल क्यूँ/ तड़पता है/ सुलगता है
12 22/12 2 2/ 122 2/122 2
तेरी मर्ज़ी/ तेरी मर्ज़ी/ पे किसका ज़ो/र चलता है
12 22/12 22/ 1 22 2/1 22 2
किसी को गुल/ किसी को तू/ने अंगारा/ बना डाला
12 2 2/12 2 2/ 1 222/12 22

यही आग़ा/ज़ था मेरा/ यही अंजा/म होना था
12 22/1 2 22/ 12 22/1 22 2
मुझे बर्बाद होना था मुझे नाकाम होना था
12 22/1 22 2/ 12 22/1 22 2
मुझे तक़दी/र ने तक़दी/र का मारा/ बना डाला
12 22/1 2 22/ 1 2 22/12 22

सोमवार, 18 मई 2020

गजल

पूरा धरती नापल ओ
चुप्पे चुप्पे कानल ओ

सुर  लयकारी अनकर छै
अनके आशे नाचल ओ

सभटा माया हुनके छनि
चट हारल पट जीतल ओ

बिख माहुर ओ कीदन खा
कनियें कनियें बाँचल ओ 

बड़का दुख अनचिन्हारक 
चिन्हारक छै दागल ओ

सभ पाँतिमे 222-222-2 मात्राक्रम अछि (बहरे मीर)। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

शुक्रवार, 15 मई 2020

गजल

दरबार के प्रतीक्षामे
उद्धार के प्रतीक्षामे 

छै लाश एखनो पड़ले
अखबार के प्रतीक्षामे 

धिक्कार सहि कऽ बैसल छै
सत्कार के प्रतीक्षामे 

बुधियार सभ रहल ठाढ़े
बुधियार के प्रतीक्षामे 

कचनार संग गेंदा सभ
प्रतिकार के प्रतीक्षामे 


सभ पाँतिमे 2212-1222 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

शेर जे सभ दिन शेर रहतै-2

प्रस्तुत अछि योगानंद हीराजीक ई शेर आ एकरा उपर किछु हमर बात--

शूल सन बात ई
संसदे जेल अछि

जाहि गजलसँ ई शेर लेल गेल अछि तकर बहर 2122+12 अछि। एहि शेरमे संसदकेँ जेल कहल गेल छै मुदा संसदमे तँ नेता रहै छै। मुदा जँ नेता रहितै तखन फेर शाइर लेल शूल सन बात किए होइतै? किछु अलग बात छै। लगभग १९६० सँ भारतीय राजनीतिमे बाहुबली सभ दबदबा राखए लागल जे कि १९९० धरि अबैत-अबैत स्थायी भऽ गेलै एवं आब ई हाल छै जे नेता आ अपराधीमे कनो विशेष अंतर नै रहलै। आ जखन अंतर नहिए छै तखन तँ संसदे जेल हेतै मुदा ई साधारण जेल नै। ई एहन जेल अछि जाहिमे अपराधी अपन सजा अपने सुनाबै छै। हीराजीक ई शेर भारतीय राजनीति केर एक्स रे प्लेट अछि जाहिमे अहाँ साफ-साफ देखि सकैत छी जे भारतीय राजनीतिमे की भऽ रहल छै। मात्र सात-आठ शब्दमे साठ-सत्तर सालक बात कहि देब एहि शेरक विशेषता अछि आ सेहो बिना कोनो भयकेँ। मैथिली गजलक बहुत रास शेरमेसँ ई शेर अपन अलग स्थान राखैए। 

शेर जे सभ दिन शेर रहतै-1

सीताराम झाजीक ई शेर अछि जाहिपर हमर संक्षिप्त विचार देखल जाए ---

अछि देशमे दुपाटी कङरेस ओ किसानक
हम माँझमे पड़ल छी बनि कै बिलाड़ि तीतल

जाहि गजलक ई शेर अछि तकर बहर अछि 2212+ 122+2212+ 122 ई शेर तहियाक अछि जहिया भाजपा नै रहै आ ओकर पितृसंगठन राजनीतिमे नै रहै। आइ केर समयमे किछु परिवर्तनक संग देश दुइए पार्टीसँ चलि रहल अछि। आ जनता ओही समय जकाँ एखनो भीजल बिलाड़ि बनल अछि। एहि आधारपर कहि सकैत छी जे सीताराम झाजी ई शेर कालजयी अछि आ अपना समयकेँ भेदन करैत एखुनको समय लेल प्रासंगिक बनल अछि। कतेको देशमे दुइए राजनीतिक दलकेँ मान्यता छै मुदा भारतमे कोनो सीमा नै मुदा प्रवृतिक हिसाबसँ देखी तँ भारतीय जनता सेहो दुइए पार्टीक अवधारणापर काज करैत अछि।

गुरुवार, 14 मई 2020

गजल

चास नै छै बास नै छै  गाम नै छै
वस्तु नै छै वास्तु नै छै दाम नै छै

आबि बैसल मोनमे अपने हिसाबें
नेह नै छै सोह नै छै काम नै छै

बस खुशीमे अंग बूझू संग बूझू 
आ दुखीमे काज नै छै नाम नै छै

देशमे रावण कुम्भकर्णो मेघनादो  
केसरी नै लाल लक्ष्मण राम नै छै 

सर्द इच्छा भाव सर्दे सर्द भेटल
चाह नै छै धाह नै छै घाम नै छै

सभ पाँतिमे 2122-2122-2122 मात्राक्रम अछि (बहरे रमल मोसद्दस सालिम )।  सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

मंगलवार, 12 मई 2020

गजल

नमो मेधा महामाया नमो देवी
नमो भाषा नमो जटिला नमो ब्राह्मी

नमो सीता नमो राधा नमो धन्या
नमो वसुधा नमो अनघा नमो लक्ष्मी

नमो दुर्गा नमो सत्या नमो आद्या
नमो काली नमो चंडी महाकाली 

नमो तारा नमो माँजरि नमो कुसुमा
नमो लोना नमो लखिमा नमो थेरी

नमो गंडक महानंदा नमो गंगा
नमो कमला नमो जीबछ नमो कोशी

सभ पाँतिमे 1222-1222-1222 केर मात्राक्रम अछि। परंपरासँ प्राप्त शब्दकेँ बहरमे सजा देल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

शुक्रवार, 1 मई 2020

गजल

रघुपति राघव राजाराम
कोना चुकतै श्वासक दाम

सुंदर सुंदर चकमक नग्र
उपटल बिलटल सभहँक गाम

गरदनि खातिर एकै रंग
सोना चाँदी लोहा ताम

पुछने रहियै एकै प्रश्न
उत्तर देलक इमली आम

उज्जर शोणित पीयर नोर
हरियर थाकनि कारी घाम

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। "रघुपति राघव राजाराम"  लक्ष्मणाचार्य रचित "श्री नम: रामायणम्" केर अंश अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।


गुरुवार, 30 अप्रैल 2020

गजल

घरक सिमान जखन फानल हेतै
धिया हियासँ कते कानल हेतै

सुनर शरीर छलै गुदरी साटल
कुपात्र आँखि कतौ मानल हेतै

उदरसँ आगि उठल हेतै जहिया
टघार नोरक ओ सानल हेतै

शिकार लेल शिकारी चललै यदि
जरूर जाल कतौ तानल हेतै

वियाह होइ बला टूटल निश्चित
गरीब पाइ जँ नै गानल हेतै
1212 112 2222

रविवार, 26 अप्रैल 2020

गजल

कोने रंग सुख की कोने रंग बेदन रे
ललना रे कोने रंगक लोकक जीवन रे

सत्ता चाहै लंपट लंगट बंगट संकट
ललना रे ईहो अजगर लपटल चंदन रे 

स्वर्गक इच्छा रखने नरके भेटल हमरा
ललना रे किछु नै रखने कटलै बंधन रे 

अमीरक बच्चा रहलै तीसो साल बच्चा
ललना रे गरीब छनमे भेलै चेतन रे 

किम्हर जेतै घर आ किम्हर जेतै आँगन
ललना रे केने रहलै खटपट बरतन रे

सभ पाँतिमे 222-222-222-222 मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानि लेबाक छूट लेल गेल अछि। सोहरक भास लोक परंपरासँ लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।





शनिवार, 18 अप्रैल 2020

आशीष अनचिन्हारक सभ गजल एकैठाम (2)

1

इम्हर एने तगमा भेटत
उम्हर गेने घटना भेटत

मूड़ी झुकने बाबू सभहँक
दिल्ली भेटत पटना भेटत

कत्ते देखब हुनकर भीतर
जे सभ भेटत ठकना भेटत

पाखंडी सभहँक चाँगुरमे
राधा भेटत सलमा भेटत

अनचिन्हारक संगे रहने
इच्छा भेटत सपना भेटत

सभ पाँतिमे 22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

2

रूसल रहलै खाली पेट
नहिये भेलै राजी पेट

भरले पेटक पूछम पूछ
नै नै करतै हाँ जी पेट

कत्ते करतै पूजा पाठ
साधुक सेहो पापी पेट

पूरा जीवन दुन्नू साँझ
खाली रहलै खाली पेट

कखनो अफरल कखनो धोधि
लुच्चा छै सरकारी पेट

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

3

हुनका आगू कोनो मुद्दा नै बँचलै
कुर्सी टेबुल चप्पल जुत्ता नै बँचलै

जिनका आगू राखल छै खाली आँठी
तिनका आगू रसगर गुद्दा नै बँचलै

सभ भऽ गेलै अपना मोने साधू संत
अइ संसारमे कियो लुच्चा नै बँचलै

हेहर कहियौ थेत्थर कहियौ या किच्छो
ई सच सभ दिन बँचलै सत्ता नै बँचलै

भूखसँ जो़ड़ल समान एलै बजारमे
महँगा नै बँचलै आ सस्ता नै बँचलै

सभ पाँतिमे मात्राक्रम 222 222 222 22 अछि। दू टा अलग अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

4

अपने जन्मल इफ आ बट
चुप्पे पसरल इफ आ बट

किंतु परंतु के फेरमे
पित्ते लहरल इफ आ बट

संबंधक नकली मुँहपर 
बहुते चमकल इफ आ बट

बाहर बाहर मिलजुल मन
भीतर उपजल इफ आ बट 

ईगो संदेहक संगे
सजि धजि निकलल इफ आ बट



सभ पाँतिमे 222 2222 मात्राक्रम अछि। "मिलजुल मन" हिंदीक एकटा प्रसिद्ध पोथीक नाम सेहो छै। दूटा अलग अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

5

दुभि धान जान हमर
फुल पान जान हमर

लय ताल भास सरस

सुर तान जान हमर

प्रत्यक्ष आस रहल

अनुमान जान हमर

छै सीता राम लखन

हनुमान जान हमर

कमजोर देह मुदा

बलवान जान हमर


सभ पाँतिमे 2212-112 मात्राक्रम अछि।
चारिम शेरक पहिल पाँतिमे एकटा दीर्घकेँ लघु मानबा छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

6

पेटक लड़ाइमे हारत के
खेतक लड़ाइमे हारत के

वचन हुनकर महामिलन केर
भेंटक लड़ाइमे हारत के

फरिया ने सकलै जीवन भरि
नेहक लड़ाइमे हारत के

टेटर कहाँ कियो देखि सकल
घेघक लड़ाइमे हारत के

अनचिन्हारक विरुद्ध समाज
जीतक लड़ाइमे हारत के


सभ पाँतिमे 222 222  22 मात्राक्रम अछि। दूटा अलग अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।


7

मोनक उप्पर बात बहुत
मोनक भित्तर घात बहुत

बिहाड़ि या कोनो कारण
गाछक निच्चा पात बहुत

छौंड़ी सन तरसाबैए
हमरा सभकेँ भात बहुत

सरकारक मेहरबानी
तँइ भेलै उत्पात बहुत

अनचिन्हारक कपारमे
नोरक छै खैरात बहुत

सभ पाँतिमे 222 2222 मात्राक्रम अछि। दूटा अलग अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

8

गरीबक नाम मजबूरी मिश्रा
अमीरक नाम अंगूरी मिश्रा

प्रस्ताव लटकल रहलै अधरमे

नहिए भेलै मंजूरी मिश्रा

भेल छै हुनकर ठोरक लालीसँ

पूरा जीवन सिंदूरी मिश्रा

छै अपने लेखक अपने पोथी 

संस्था छै अपने जूरी मिश्रा

केकरो दोस्ती नै टूटै मुदा 

ईहो छलै बड़ जरूरी मिश्रा

सभ पाँतिमे मात्राक्रम 222 222 222 अछि। दू टा अलग अलह लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

9

सभटा सुविधा सरकारी राम हरे 
खाली हुनके सरदारी राम हरे 

जीवन भेलै अखबारी राम हरे

रिपोर्टिंग रहलै जारी राम हरे 

अपनेमे मारा मारी राम हरे 

उजड़ल पूरा फुलवारी राम हरे

अपने थारी घिउढ़ारी राम हरे 

खाली अपने परचारी राम हरे 

बच्चा भेलै संस्कारी राम हरे

माए रहलै बेचारी राम हरे 

सभ पाँतिमे 22 22 22 22 22 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव आमंत्रित अछि। राम हरे पदक प्रयोग भजन सभसँ लेल गेल अछि।

10

बात हुनकर सम्मोहन हो राम
हँसी हुनकर दुखमोचन हो राम

नमरी बड़ हल्लुक छै से कहलक 
फाइल सभ केर ओजन हो राम

ने बँचलै नौकरी ने बेपार
भेटतै कोना भोजन हो राम

छै हुनके माला हुनके माइक
हुनके मंच संयोजन हो राम

छै तीत अकत बेबहार लेकिन
भेलै मीठ संबोधन हो राम 

सभ पाँतिमे 222 222 222 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

11

निशानापर बूढ़ संगे बच्चा छै
देशमे आब युवा केर सत्ता छै

दर्दक अनुभव होइतो नोर रोकब

ईहो एक तरहँक गर्भहत्या छै

सत्य हुनकर ठोरक चुप्पी जगतमे

बाद बाँकी बात मिथ्ये मिथ्या छै

केकरो हाथमे भरलाहा भारी

केकरो हाथमे खाली डिब्बा छै

लोहा के हो प्लास्टिक के या काठक

कोनो कुर्सी अपनामे सत्ता छै

सभ पाँतिमे 22 22 22 22 22 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि


12

हौआ एलै राजाजी के राजमे 
की नै भेलै राजाजी के राजमे

चतरल पसरल घनगर हरियर गाछ सभ

बड़ मुरझेलै राजाजी के राजमे

पातर गहुमन धामन आरो साँप सभ

बड़ मोटेलै राजाजी के राजमे

जे चौपेतल चुनरी छातीपर रहै

से उधिएलै राजाजी के राजमे

नीरो बनि गेलै चूनल सरकार आ

बंसी टेरै राजाजी के राजमे

सभ पाँतिमे 22 22 22 22 212 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि


13

काज कम जोर बेसी
मूँह कम ठोर बेसी

आँखि हुनकर कहैए
दर्द कम नोर बेसी 

देशमे आबि गेलै
आब लतखोर बेसी

ई बजट एहने छै
माछ कम बोर बेसी

हाल पिच केर अतबे
सिक्स कम फोर बेसी

सभ पाँतिमे 2122 122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि

14

चुप्पे चुप छै सभहँक फेस
लागल हेतै कत्तौ ठेस

अपने रस्ता अपने आरि
अपने हारल अपने रेस

हुनकर नेहक बनलै जेल
हमहूँ हारब जीतल केस

इम्हर उम्हर सगरो देखि
चल गे सजनी सुंदर देस

बहुरुपिया लग रहिते छैक
जेहन तेहन बहुते ड्रेस

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

15

हुनकर बाजब काँटे कूस
सुनबैया के मनुआ झूस

हमरा चाही हुनकर नेह
बाजू लेबै कत्ते घूस

भागल रौदी दाही बेर
खाली आबै माघे पूस

धर्मी डूबल बिच्चे धार
बड़का पापी अनका दूस

नेता भेलै लड्डूलाल
जनता भेलै लेमनचूस

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। "धर्मी डूबल बिच्चे धार" ई पाँति कबीरक एक पदसँ प्रेरित अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

16

चिन्ते चिन्ता छै
तैयो जिन्दा छै

ठक के नगरीमे
ठक बासिन्दा छै

किछु छै मालिक सन
किछु कारिन्दा छै

नीके लगलै से
केहन निन्दा छै

जे राधा रानी
से गोविन्दा छै

सभ पाँतिमे 22 22 2 मात्राक्रम अछि।

17

छन छनमे जे बदलल दुनियाँ
अपने सनकेँ लागल दुनियाँ

रखलक नाम गंगाजल मुदा 

इम्हर उम्हर घोंकल दुनियाँ 

बाहर बाहर संतोषी छै
भीतर भीतर दग्धल दुनियाँ

कखनो लागै फूलल फूलल
कखनो लागै पचकल दुनियाँ

अपने आगिसँ जरबे केलै
अपने रसमे भीजल दुनियाँ

सभ पाँतिमे 22 22 22 22 मात्राक्रम अछि। दूटा अलग अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि।


18

अपने जरलै अनचिन्हार अनचिन्हार
मिझा कऽ चमकै अनचिन्हार अनचिन्हार

पूरा जीवन आमने सामने रहितो
दुन्नू रहलै अनचिन्हार अनचिन्हार

हमर आँखिमे हुनकर आँखि गुणा करियौ
तखने हेतै अनचिन्हार अनचिन्हार

सर्किल कतबो बड़का हो मुदा बिन पाइ
दुनियाँ कहतै अनचिन्हार अनचिन्हार

दर्दक छतपर असगर असगर चुप्पे चुप
खुब्बे टहलै अनचिन्हार अनचिन्हार

सभ पाँतिमे 22-22-22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दूटा अलग अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

19

खिचने गेलै जिंदा खाल
लगुआ भगुआ जहरीलाल

भीतर लगलै कसगर चोट

बाहर खाली कादो थाल

इम्हर चूबै अगबे घाम

उम्हर बाजै सुर लय ताल

कानूनक अछि नवका नाम

टूटल हाथक फाटल जाल

एकै टा छथि सभहँक नाथ

अतबे आसा सालो साल

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि।सुझाव सादर आमंत्रित अछि।


20

गंगा घोषै जमुनावाद
जमुनो घोषै गंगावाद

अतबे चाहै सत्तावाद
बारुद गोली  डंडावाद

हमरा कहलथि हरिजन एक्ट
हुनका कहलनि बभनावाद

हुनकर सभहँक देखू नेत
अनका नै बस अपनावाद

मंदिर मस्जिद संसद लोक
सभहँक नारा ठुमकावाद

सभ पाँतिमे  22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

21

खूब गरजैए सच केर दलाल
खूब ठहकैए सच केर दलाल

छै चानन अनकर आनन हुनकर
खूब चमकैए सच केर दलाल

केखनो एहन केखनो ओहन
खूब बदलैए सच केर दलाल

किछु भेटत तकरे प्रत्याशामे
खूब लिबलैए सच केर दलाल

अपने सच्चा अनका झुट्ठा कहि
खूब बिकलैए सच केर दलाल

सभ पाँतिमे 222-222-222 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

22

मूँहो केहन केहन
भातो केहन केहन

टूटै छै राग भास
गीतो केहन केहन

बुझबे करतै कहियो
आसो केहन केहन

इच्छा कीनत बेचत
हाटो केहन केहन

सदिखन उठबै असगर
बोझो केहन केहन

किछु कथा मोन पड़लै
मीतो केहन केहन

सभ पाँतिमे 22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानि लेबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

23

अपने कहलक आह
अपने बुझलक वाह

अपने मोने प्रीत
अपने मोने डाह

अपने बनलै धार
अपने लेलक थाह

अपना आगू लोह
अपने पाछू लाह

अपने मरहम भेल
अपने बनलै घाह 

सभ पाँतिमे 22-2221 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

24

रघुपति राघव राजाराम
कोना चुकतै श्वासक दाम

सुंदर सुंदर चकमक नग्र
उपटल बिलटल सभहँक गाम

गरदनि खातिर एकै रंग
सोना चाँदी लोहा ताम

पुछने रहियै एकै प्रश्न
उत्तर देलक इमली आम

उज्जर शोणित पीयर नोर
हरियर थाकनि कारी घाम

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। "रघुपति राघव राजाराम"  लक्ष्मणाचार्य रचित "श्री नम: रामायणम्" केर अंश अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

25

किनको भेटै फूलक रंग
किनको भेटै काँटक रंग

चुप्पे रहलै मंचक पात्र
बदलल लागल नाचक रंग

पूरा पूरी मोनक चाह
आधे रहलै आधक रंग

अपने रहलै हरियर गाछ
पीयर भेलै पातक रंग

नीपल ढ़ौड़ल बहुते झूठ
भखरल भखरल साँचक रंग

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

26

कविता बहुते जेबीमे
सुविधा बहुते जेबीमे

लक्षणा व्यंजना संगे
अभिधा बहुते जेबीमे

अपने खातिर रखने छी
दुविधा बहुते जेबीमे

हुनका मोनक हवन कुंड
समिधा बहुते जेबीमे 

तंत्र मंत्र जोगी संगे
मुखिया बहुते जेबीमे 

सभ पाँतिमे 22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

27

मॅालक चस्का देने गेल 
लोटा थारी लेने गेल

हमरो हिस्सा हुनके नाम
चुप्पे चुप रखबेने गेल

नहिये बँचतै टूटल नाह
तैयो असगर खेने गेल

जत्ते बिछलक अपनेसँ
सभ टा से छिड़ियेने गेल

अपना देशक अतबे हाल
गरदनि बाँचल चेने गेल

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

28

हमहीं खाली सुंदर सुंदर
बाँकी दुनियाँ बानर बानर

हुनकर ठेकाना नोट करू
सत्ता डोरी जिम्हर जिम्हर

रस्ता भेटल चिक्कन चुनमुन
पहिया लेकिन पंचर पंचर

सभ टा सपना पुरबे केलै
बाँकी सपना आँचर काजर

अमीर लग छथि गंगा जमुना
छथि गरीब लग ईंटा पाथर 

सभ पाँतिमे 22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

29

अपना अपनी हेम छेम
बाँकी सभ छै गेम गेम

हम्मर हुनकर चालि चलन
डिट्टो डिट्टो सेम सेम

हम्मर आँखि हुनकर आँखि
जादू टोना नेम टेम

बिन किछु केने धेने जी
खाली चाही फेम फेम

आलोचनानुमा पोथी
तइमे अपने नेम नेम

सभ पाँतिमे 22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

30

जनबल धनबल छलबल मोन
कत्ते सहतै निर्बल मोन

सदिखन चाहै पापक ओट
सुंदर निश्छल निर्मल मोन

गर्जन तर्जन वर्जन सूनि
चुप्पे रहलै कलबल मोन

हमरे हिस्सा थाकल देह
हमरे हिस्सा चनकल मोन

अनका खातिर अनचिन्हार
हमरा खातिर दगधल मोन

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

31

हुनकर आँखिक अतबे सपना
हिंदू मुस्लिम चमरा बभना

साहित्य आ कि राजनीतिमे
अबिते रहलै अदना पदना

अधरतियामे हमहूँ देखल
एकै भेलै अरघा बदना

नोर नोर नोर नोरे नोर
अतबे लिखने रहथिन विधना

दुख भेटल रहै मुँहदेखाइ
दुक्खे रहै हमर मुँहबजना

सभ पाँतिमे 22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

32

रंगक जोर हमरे सन
कारी गोर हमरे सन

ई सभ बादमे बुझलहुँ
ओहो चोर हमरे सन

हुनका सन हँसी सभहँक
सभहँक नोर हमरे सन

धँसलै बात भीतर धरि
हुनको ठोर हमरे सन

अनुभव केलियै हमहूँ
छै अंगोर हमरे सन

सभ पाँतिमे 2221-222 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

33

बेपारी छै ताल बैताल
हाटक बड़का जाल बैताल

कारी कारी कर्मक बलपर
गोटी भेलै लाल बैताल

इच्छा बनि गेलै भस्मासुर
अपने बनलै काल बैताल

जा धरि दियाद गलि नै गेलै
दबने रहलै माल बैताल

हुनकर मोनक हुनकर देहक
हमरो कहलक हाल बैताल

बाँकी नै छै कोनो गाछी
आबै साले साल बैताल


सभ पाँतिमे 22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

34

अगर मगरमे जीवन बीतल
गीजल कादो फेरो गीजल

पढ़ने रहियै जे अगर मगर
जीवन भरि से बहुते लीखल

जिम्मा हिस्सा  के झगड़ामे
ई अगर मगर हमहूँ सीखल

असगर सुन्न पड़ल आँगनमे 
अपने रूसल अपने बौंसल

अलगे अनुभव हुनका छुबिते
पलमे ठंडा पलमे धीपल


सभ पाँतिमे 22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

35

हुलहुल हुलकै अगबे उधार
तइमे बिकलै आँगन हमार

धोती कुरता बड़का टिक्का
चमचम चमकै राँगल सियार

झुट्ठे के छै सभहँक जीवन
झुट्ठे के छै खाँहिस हजार

हेबे करतै ई महामिलन
कुमारि इच्छा हाटो कुमार

किछु आदति तेहने रहै जे 
हमहूँ लचार ओहो लचार


सभ पाँतिमे 22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

36

छनमे छै सुल्तान सखी
छनमे छै दरबान सखी

पंडित पुरहित असगर छथि
असगर छथि भगवान सखी

साँचो हेतै किछु ने किछु
बाँकी छै अनुमान सखी

भूखक आगू जीवन छै
नै दे हमरा ज्ञान सखी

कत्ते सीबै तोंही कह
फाटल छै असमान सखी

सभ पाँतिमे 22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

37

बच्चा माने चिन्नी चोर
सियान माने मुर्गी चोर

बिल्डर रखने मेघक टेक
नेता माने धरती चोर

हम भेलहुँ दर्दक अवतार
हुनका मानू हँस्सी चोर

दुन्नू घातक माछक लेल
बंसी मालिक बंसी चोर

मालिक बनलै दाही केर
जे छल पहिने  रौदी चोर

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

38

जक्खन देखू सुंदर देखू
हरियर चश्मा हरियर देखू

छै बेटी भेने दुन्ना दुख
सासुर देखू नैहर देखू

भुसकौल लेखक पोथी मोट
अद्भुत अद्भुत थैहर देखू

भीतर तकने बाहर भेटत
अपना अपनी अंतर देखू

छै प्रवृति मनुक्खक कुक्कुर सन
ज्ञानी कहलक बानर देखू

सभ पाँतिमे 22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

39

छै दालि भात तीमन खंडित
गरीबक भाग भोजन खंडित

एहन सुदीन कहिया हेतै
साँखर खंडित धामन खंडित

ई बात वएह बूझत जकर
एक नजरिमे जीवन खंडित

भवसागरमे रहने बसने
भवसागर के बंधन खंडित

अइ कारोबारी दुनियाँमे
सभहँक इच्छा सदिखन खंडित

सभ पाँतिमे 22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

40

कहबौ तोरा अपने घरक बात
लगतौ तोरा अपने घरक बात

अइ खाली खाली घरमे सदिखन
तकतौ तोरा अपने घरक बात

काशी केर ठक सभ आब गेलै
ठकतौ तोरा अपने घरक बात

घुमा फिरा कऽ पहिल बलिदान लेल
चुनतौ तोरा अपने घरक बात

बेरा बेरी संदेहक आँखिसँ
पढ़तौ तोरा अपने घरक बात

सभ पाँतिमे 22-22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

41

दिनका खिस्सा लत्तम जुत्तम
रतुका हिस्सा लट्ठे लट्ठम

करेजक बदला करेजे दऽ कऽ
हिसाब केलहुँ सद्धम बद्धम

रोडक बहार अजबे बहार
खत्ता खुत्ती गड्ढ़े गुड्ढ़म

इच्छा भेलै नमहर चाकर
संभव रहलै भुट्टे भुट्टम

गरीब लेल मिथिला पंचांग 
अमीर बूझै सुद्धे सुद्धम

सभ पाँतिमे 22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

42

जोड़ल रहलै आँगुरपर
तैयो बिसरै आँगुरपर

कहने रहियै आँगुरपर
कहबे करबै आँगुरपर

बाहर हो की भीतर हो
कत्ते नचतै आँगुरपर

रौदी दाही अपने छै
हमहूँ लुटबै आँगुरपर

इच्छा बनलै छागरजी
अपने कटतै आँगुरपर

सभ पाँतिमे 22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।


43

भागो ने जगलै
आसो ने पुरलै

खेत पथार गाछ
धारो ने रहलै

गीत छै विनाशक
भासो ने लगलै

अर्घ छै दुख केर
हाथो ने उठलै

पूरा चक्करमे
आधो ने बँचलै

सभ पाँतिमे 22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

44

अखबारे सरकार छै
सरकारे अखबार छै

ई बुझलहुँ केनाहुतो
उपकारे अपकार छै

राजा मंत्री आ प्रजा
दरबारे दरबार छै

एलहुँ हम सुख दुख भुजा
संसारे कंसार छै

अइ धनिकक जनतंत्र लेल
रखबारे रखबार छै

सभ पाँतिमे मात्राक्रम 22-22-212 अछि। अंतिम शेरक पहिल पाँतिक अंतिम लघु छूटक तौरपर लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

45

कहलथि सरदार भुँइ भुँइ सिंग
जनते बेकार भुँइ भुँइ सिंग

हे नीपि पोति राखू आँगन 
एथिन सरकार भुँइ भुँइ सिंग

असगर राजा असगर रानी
असगर दरबार भुँइ भुँइ सिंग

प्रेते सन छनि जीवन हुनकर
भेलथि असवार भुँइ भुँइ सिंग

कोन जुलुम जे अइ दुनियाँमे
चाहथि परचार भुँइ भुँइ सिंग

भने सुखाएल रहौ आँगन
अपने रसदार भुँइ भुँइ सिंग

सभ पाँतिमे 22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

46

बनि ठनि रचि रचि कऽ सिंगार केलक ओ
हमर सारापर पिकनिक मनेलक ओ 

गरीबक हिस्सा खेलक पचेलक ओ
तकर बादे धारे झा कहेलक ओ 

चलब नियति छै जीवन केर ई कहि कऽ
बाटे घाटे अनवरत घुमेलक ओ

पहिने बनेने छल बम गोली मुदा
अइ बेर हमरा पायल बनेलक ओ

अनचिन्हारे सन कठकरेज बुझलक
तँइ उदास खिस्सा हँसि कऽ सुनेलक ओ

सभ पाँतिमे 22-22-22-22-22  मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

47

किछु नै भेलहुँ जीवनमे
अपजश लेलहुँ जीवनमे

जहिया जखन भूख लागल
धोखा खेलहुँ जीवनमे

दुख दर्द आ नोरे नोर
अतबे धेलहुँ जीवनमे

अपन मरजीसँ गेल रही
अपने एलहुँ जीवनमे

बहुत बेर बहुत कारणसँ
मूँहे बेलहुँ जीवनमे

सभ पाँतिमे 22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

48

करिते रहलै मारि बात
धरिते रहलै डारि पात

हुनकर हँसी चूड़ा दही
हुनकर तामस दूध भात

एक दू तीन चारि पाँच
केने छै अनेको घात

कनी सुगंध कनी अवाज
पसरि गेलै चारू कात

बिच्चे बैसल धनी मनी
बाँकी सभ तँ काते कात

सभ पाँतिमे 22-22-22-2  मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

49

नारेबाजी फ्री फ्री
झंडेदारी फ्री फ्री

हिस्सेदारी पूरा
जिम्मेदारी फ्री फ्री

साँच वचन के संगे
मारा पिट्टी फ्री फ्री

जनता गेल जेलमे
कारोबारी फ्री फ्री

संबंधक बदला छै
सोना चानी फ्री फ्री

सभ पाँतिमे 22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

50

उम्हर उड़लै लाखो जी
इम्हर टुटलै आसो जी

असगर बैसल आँगनमे
माटिक मूरत माधो जी

नहिए भेलै पुण्य शून्य
चलिते रहलै पापो जी

ईहो देखब जीवनमे
अपनो हँसतै आनो जी

हुनकर कर्मक पोखरिमे
नहिए लगलै थाहो जी

सभ पाँतिमे 22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

51

बहसल सिनेह रभसल सिनेह
सिनेह बुझिते उपजल सिनेह

कहियो रखने छल भीड़ भाड़
आइ असगरे अभरल सिनेह

पसंद छै सभहँक अपन अपन
छै सिनेहपर लुबधल सिनेह

अप्पन लोक बनि बहुत ठकलक
आब आन बनि पहुँचल सिनेह

हेतै किछु ने किछु कारण तँइ
ठेहुन धरि छै निहुरल सिनेह


सभ पाँतिमे  22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

52

पानि मँगिते रौद धधकल
रौद मँगिते पानि बरसल 

मोन बुझिते देह उमकल
देह छुबिते मोन बहसल

पाँच बर्खक आस अतबे
धोधि निकलल पेट अफरल

चास केहन बास केहन
फूल रोपल काँट उपजल

ई समय केहन समय छै
प्राणमे छै प्राण अटकल

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।


53

बेपार सदा सोहागिन
पैकार सदा सोहागिन

उपकार मरलै छन छनमे
अपकार सदा सोहागिन

कहू कोन सिंदूर लगा
सरकार सदा सोहागिन

सभ अबैत जाइत रहतै
संसार सदा सोहागिन

बिलेतै अनुचित समर्थन
प्रतिकार सदा सोहागिन

सभ पाँतिमे  22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

54

पहिने मिठाइ फेर मिरचाइ भेलै
चीन्हल जानल लोक हरजाइ भेलै

पहिले दीनमे सजा सुना देलकै
तारीखसँ नीक जे सुनवाइ भेलै

देखै जेहन मूँह तेहने रचि दै
आब ओहो शब्दक हलुआइ भेलै

अपने घर आँगन अपने दुआरिपर
बहुत मस्ती बहुते पहुनाइ भेलै

चलि जाइत रहलै अनचिन्हार बनि कऽ
कहियौ एहन कोन अगुताइ भेलै 

सभ पाँतिमे  22-22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

55

दुखमे चाहत मोन हमर
सुखमे बाँटत मोन हमर

अते इयाद लेने जाउ
अतबे राखत मोन हमर

बेर बखतपर भस्मासुर
हमरे मारत मोन हमर

कऽ लिअ छल कपट आ जे से
किछु ने जानत मोन हमर

अपन बूझि अबियौ कहियो
अपने लागत मोन हमर

सभ पाँतिमे  22-22-22-2 मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

56

रचा गेलै राखल बात
बचा गेलै बाँचल बात

लगेतै ओ केहन अर्थ
मिटा रहलै लीखल बात

बजारक छै अतबे रेट
बिका गेलै लीबल बात

भरल पेटक ढेकारेसँ
अघा गेलै भूखल बात

दुखक कड़गर भरिगर रौद
सुखा गेलै भीजल बात

सभ पाँतिमे 1222-2221 मात्राक्रम अछि।  सुझाव सादर आमंत्रित अछि।


57

हमरो भेटल सुन्ने सुन्ना
हुनको देलक तकरे दुन्ना

बेरोजगारीक तीन यार
धर्म शर्म भाषण झुनझुन्ना

छिड़िआ गेल छलहुँ हम बहुते
हमरा बान्हल भूखक जुन्ना

संसदमे के सभ पहुँचल छथि
सीसी बोतल ठेपी मुन्ना

ओ सभ मरलै जिनका कारण
से गाबै छथि ता ता तुन्ना

सभ पाँतिमे  22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

58

सजल नयन मिथिलेश हो मालिक
कमल नयन अवधेश हो मालिक

हुनक कहब छनि जे ई सभ हमरे
हमर बचल कुन देश हो मालिक

दशा दिशा के तय करत अहि ठाँ
सड़ल गलल परिवेश हो मालिक

कनी मनी छनि आचरण हुनकर
बहुत बहुत उपदेश हो मालिक

नवे नवे अफसर नवे भाषण
सुनल सुनल संदेश हो मालिक

सभ पाँतिमे मात्राक्रम 12-1222-1222 अछि।  सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

59

कोने रंग सुख की कोने रंग बेदन रे
ललना रे कोने रंगक लोकक जीवन रे

सत्ता चाहै लंपट लंगट बंगट संकट
ललना रे ईहो अजगर लपटल चंदन रे 

स्वर्गक इच्छा रखने नरके भेटल हमरा
ललना रे किछु नै रखने कटलै बंधन रे 

अमीरक बच्चा रहलै तीसो साल बच्चा
ललना रे गरीब छनमे भेलै चेतन रे 

किम्हर जेतै घर आ किम्हर जेतै आँगन
ललना रे केने रहलै खटपट बरतन रे


सभ पाँतिमे 222-222-222-222 मात्राक्रम अछि। दू अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानि लेबाक छूट लेल गेल अछि। सोहरक भास लोक परंपरासँ लेल गेल अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

60

चास नै छै बास नै छै  गाम नै छै
वस्तु नै छै वास्तु नै छै दाम नै छै

आबि बैसल मोनमे अपने हिसाबें
नेह नै छै सोह नै छै काम नै छै

बस खुशीमे अंग बूझू संग बूझू 
आ दुखीमे काज नै छै नाम नै छै

देशमे रावण कुम्भकर्णो मेघनादो  
केसरी नै लाल लक्ष्मण राम नै छै 

सर्द इच्छा भाव सर्दे सर्द भेटल
चाह नै छै धाह नै छै घाम नै छै

सभ पाँतिमे 2122-2122-2122 मात्राक्रम अछि (बहरे रमल मोसद्दस सालिम )।  सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

61

माथा छाती हाथो माछ
रसमे डूबल अधरो माछ 

देखू भेलै केहन भाग
पोखरि कूदै तरलो माछ

अगड़ा पिछड़ा चक्कर चालि
पोठी बनतै रहुओ माछ

अनकर पोखरि कत्ते आस
देलक धोखा अपनो माछ 

केहन केहन हेतै जाल
से सभ जानै नवको माछ

सभ पाँतिमे 22-22-22-21 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

62

लंफ लंफा संगमे नै
ढेर शंका संगमे नै

आपरूपी इष्ट भेटल
धैर्य हमरा संगमे नै

ई उपासे ओ उपासे
पैंट अंगा संगमे नै

पाइ कोठा फ्रीज सोफा
बीत बिग्घा संगमे नै

काँट हँसलै देखि अतबे 
फूल भमरा संगमे नै
 
बोझ परहक आँटी सनक ई शेर--

देह पूरा ठीक लेकिन
रीढ़ हमरा संगमे नै

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

63

शत्रु सम अभ्यास ताकै
लाशमे उल्लास ताकै

बीचमे छै मोह माया
कातमे संन्यास ताकै

बेचलक जे माघ फागुन
घुरि कऽ ओ मधुमास ताकै

आर पारक खेल हेतै
नित नवल विश्वास ताकै

जानि ने की बूझि दुनियाँ
वास्तविक आभास ताकै

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

64

मोन बनलै शांतिवादी
पेट बनबै क्रांतिकारी

एक राजा एक रानी
बाद बाँकी दास दासी 

ई जमा हमरे जमा अछि
आँखि भारी पीठ भारी

की कऽ सकतै से तँ कहियौ
दोस्त बनलै काठ आरी

भाग ओकर एहने छै
एकभुक्ते एकचारी

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

65

अस्त्र हुनकर चालबाजी
शस्त्र हुनकर जालसाजी

डेग डेगक आस रखने
लोक खातिर वेद राजी

चुप भऽ देखै अंग दहिना
वाम खेलै तीख बाजी

सैंत बैसल छी हँसी हम
खूब उछलै नोर पाजी

खूब बंटाधार हेतै
खेल मुकुटक ताज ताजी

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

66

आइ जे इतिहास हेतै
काल्हि से उग्रास हेतै

पाइ बिन अतिचार मानू
पाइ बिन मलमास हेतै

की जरूरी हारि मानी
आस रखने रास हेतै

बूझि गेलहुँ बात हुनकर
दोसरे सभ खास हेतै

छल अभयमुद्रा बहुत दिन
आब ओ संत्रास हेतै

सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।  

67

घड़ी दू घड़ी जे बिता गेल भमरा
बहुत बात हमरा सिखा गेल भमरा 

गमक लीखि देबै मधुर रस परागो
जदी गाछ फूलक पटा गेल भमरा 

निमाहब कठिन छै हलाहल समाने
अपन आन खातिर बिका गेल भमरा 

हमर टीस लेलक अपन टीस देलक
तकर बाद किम्हर नुका गेल भमरा

रहै दाग पुरना मुदा दर्द नवके
हवन कुंड लग सकपका गेल भमरा 

सभ पाँतिमे 122-122-122-122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

68

गतिहत संगत झंझट डेरा
मतिहत पंगत अगबे फेरा

अपने पुरखा कहने रहथिन
करनी जनिअह मरनी बेरा

एना मरतै आलू कोबी
ओना मरतै झिमनी घेरा

बहुते नखरा राँगल जंतुक
शेरक मुद्रा बैसल शेरा  

एकै पेटक तीनू बच्चा
सरदर तख्ता खुहरी चेरा

सभ पाँतिमे 22-22-22-22 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आममत्रित अछि।

69

पुछारी करा गेल हेतै
बुढ़ारी बना गेल हेतै

अचानक मिझा घूर भागल
जरूरे दगा गेल हेतै

कनी देखलहुँ बाट सरगक
दिबारी जरा गेल हेतै

अबैए गमक किछु अजीबे
कि सुइटर बुना गेल हेतै

विलंबित रहल ताल सभहक
कहीं द्रुत गबा गेल हेतै

सभ पाँतिमे 122-122-122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

70

मनोबल मनोरम बना देत निश्चित
मनोकामना सभ पुरा देत निश्चित

नियम ई सदा मोन राखब अहाँ हम 
अपेक्षा उपेक्षित बना देत निश्चित

कते रोकि रखतै कते दाबि सकतै
बहल नोर दुनियाँ जरा देत निश्चित

कनी आचरण ठीक रखबै तँ अनुभव 
गजल नीक सुंदर कहा देत निश्चित

कियो आइ पूजा करैए मुदा ओ 
विसर्जन कऽ जल्दी भसा देत निश्चित

सभ पाँतिमे 122-122-122-122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि। 

71

भूमिपर अघोषित आपदा छै
आदमीसँ बेसी देवता छै

मोक्ष लेल साधल मोहमाया
साधनासँ बेसी वासना छै 

मोन मरि कऽ एलै देह खातरि
जीबि जाइ अतबे कामना छै

रत्न सागरक मंथनसँ भेटल 
ई उठा पटक संभावना छै

मोनमे बसल छै मोन हुनकर
संग लेल ई प्रस्तावना छै 

सभ पाँतिमे 212-122-2122 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।

72


पानि कादो थाल की छै
बोनि उपजा टाल की छै

प्रश्न ईहो पूछि देलक
आर कहियौ हाल की छै

साधि लेलक दर्द सभटा 
राग सुर आ ताल की छै

घीचि लेतै प्राण सभहक
जीह की छै खाल की छै

गेल सौतिन फेर पोखरि
माछ पुछतै जाल की छै


सभ पाँतिमे 2122-2122 मात्राक्रम अछि।

73

बाहर बाहर जोड़ल भतार
भितरे भीतर टूटल भतार

छै मृगतृष्णा सन के विकास
इम्हर उम्हर दौड़ल भतार 

इच्छा माने पूरा समान 
किम्हर जेतै परिकल भतार

लेने हेतै सभटा हिसाब
चुप्पे रहि रहि कानल भतार

हमरा आने देलक समाद
अपने लोकक दागल भतार

सभ पाँतिमे 22-22-22-121 मात्राक्रम अछि। सुझाव सादर आमंत्रित अछि।




तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों