Thursday, 22 July 2010

गजल

मोन नहि भरैए मिलनक बेर मे
अनचिन्हार कहैए मिलनक बेर मे


जेहन विरह हो तेहन सिनेह
अनचिन्हार मोन पड़ैए मिलनक बेर मे


हमर देहक भाषा-अभिलाषा
अनचिन्हार बुझैए मिलनक बेर मे


भगवानो जनैत छथिन्ह मोनक बात
अनचिन्हार अबैए मिलनक बेर


हुनकर रीत हुनकर प्रीत हुनकर गीत
अनचिन्हार लगैए मिलनक बेर मे

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों