Friday, 25 February 2011

गजल

एहि तरहें प्रेम लेल तरसल हमर करेज

बरखाक हद तोड़ि बरसल हमर करेज



नहि देखाएत ओकर नाम सच मानू

अछि बड्ड हाथक दकचल हमर करेज



नहि भेटतैक हमर प्रेमक गोपी केकरो

माघ मासक गाछी जकाँ उजरल हमर करेज



कनेक अहूँ खाउ कनेक अहूँ खाउ

भोजक अन्न जकाँ परसल हमर करेज



कतबो रोकबै नहिए रुकत औ सरकार

अनचिन्हारक संग उड़रल हमर करेज



2 comments:

  1. bahut achchhi lagi .sab shabd to samajh nahi payee par bhasha ki miyhhas ne aanandit kar diya .badhai .

    ReplyDelete
  2. Aasheesh jee, aam aadmee ke satya..... Abhivyakti prabhaavee.

    ReplyDelete

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों