Wednesday, 27 April 2011

रुबाइ

कतेक रास-बात हम हुनका बतेलों
कतेक सब्ज-बाग़ हम हुनका देखेलों
तब जाए के मानल ओ छौड़ी अभगली
कतरि के झाड़ि पे जे हुनका चढेलों

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों