Saturday, 16 April 2011

रुबाइ

देखलों जे हमरा किया मुह फेरि लेलों
उगैत चाँद के बादल में घेरि लेलों
कियाक रुसल छि अहाँ हमरा सों
कियाक चाँद पर परदा करि लेलों

6 comments:

  1. बहुत अच्छी भावाभिव्यक्ति.सुनील जी ये बताएं की रूसल के क्या मायने हैं.

    ReplyDelete
  2. बड्ड नीक काज।

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत धन्यवाद्

    ReplyDelete
  4. सब गोटे के बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों