Tuesday, 25 February 2014

गजल

सोइत बाभन कैथ कहार 
मिथिला पर केलक प्रहार 


बिसरू पांती समयक मांग 
माँ मिथिला के छी आधार 


मैथिल जन सन ज्ञाता कतय
जाति बनेलक निपट लचार 


पाँचो आन्गुर लिय मिलाय 
मिथिला के तखने उद्धार 


फूजल मन से कोशिश एक 
खोलत मिथिलाक विजय द्वार


२२२२ २२२१

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों