Sunday, 17 March 2013

गजल

गजल-1.56

आउ बनबी घर एहन प्रिये
सदति बाजै जतऽ कंगन प्रिये

डरसँ भेले छै पात सब पियर
जखन एलै पतझड़ सन प्रिये

लोक चैनसँ नै बैस सकत जतऽ
बूझि लिअ ओतै बन्हन प्रिये

अपन लाजसँ सजबू अपन भवन
काटि लेबै मिल जीवन प्रिये

छूटि जेतै लाठी करसँ सगर
जोड़ जग भरिकें आँगन प्रिये

दावपर लागल अछि कलम "अमित"
द्रोह बनि आ तूँ सावन प्रिये

2122-2212-12
अमित मिश्र

1 comment:

  1. बहुत सुद्नर आभार अपने अपने अंतर मन भाव को शब्दों में ढाल दिया

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    एक शाम तो उधार दो

    आप भी मेरे ब्लाग का अनुसरण करे

    ReplyDelete

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों