Tuesday, 11 March 2014

गजल

ई होली किछु खास हेतै  
हुनका ले मधुमास हेतै      

नवका कोंपल फूटि चहकै
परिवर्तन के भास हेतै

निकलत करिया रंग जखने
वैरक तखने नास हेतै

मिलि जुलि फागक गीत संगे
पुरना झगड़ा ह्रास हेतै

नवका ऊर्जा संग लय के
नव मिथिला मे रास हेतै

२२२२ २१२२

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों