Monday, 23 January 2012

गजल


टीस उठैए करेज में कोना कहु बितैए की
कोन लगन लगेलौं अहाँ सँ याद अबैए की


जतय देखु जिम्हर देखु अहीँ केँ देखै छीक 
कोना बितत दिन-राति कोना कए बितैए की


की करू कोना करू आब नै किछ फुराईए 
रहि-रहि  क ' याद अहुँ  केँ  हमर आबैए की


प्रियतम 'मनु' केँ  किएक इना तरपाबै छी
मोन में लहर उठल से अहुँ केँ  लगैए की 


(सरल वार्णिक बहर, वर्ण-१७)
जगदानन्द झा 'मनु' : गजल संख्या-१० 

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों