Saturday, 21 January 2012

गजल

जेम्हरे देखबै देखाएत समस्याग्रस्त लोक
अपने जकाँ तँ बुझाएत समस्याग्रस्त लोक

देखू ओ तँ बैसल कुर्सी पर विश्वामित्र बनि
रोहिते जकाँ तँ बिकाएत समस्याग्रस्त लोक

एतै जखन बिहाड़ि सत्ता, धन आ बल केर
पाते जकाँ उड़िआएत समस्याग्रस्त लोक

सोचै छलै पाइ भेटने इ करब ओ करब
हाथेंपर दही जन्माएत समस्याग्रस्त लोक

ओकरा बुझल छै जे गलती के करै छै तैओ
अपनेपर खिसिआएत समस्याग्रस्त लोक



सरल वार्णिक बहर --- हरेक पाँतिमे 17 अक्षर|

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों