Friday, 31 January 2014

गजल



बताह भेलइ  मनुआं आब कोना मानत​           
पुरान यादिक गठरी  फोलि फेरो कानत         

करेज़ चनकल टुकरी भेल  संगी  रूसल​         
समेट सभटा टूटल टूक​   फेरो गानत            

बिसैर नहि पेलक ओकर मधुर यादक पल  
सिनेह नहि बिसरत​   ई बात फ़ेरो ठानत​        
                                                 
ससैर गेलै प्रेमक ताग​ छलई   तानल​                
सहेज सभटा प्रेमक  ताग​  फेरो  तानत​              

सचेत कतबो केलहुँ मोन अप्पन कोना        
जड़ैत डिबिया सन मोनक इ गप के जानत                                              

सभ पाँतिमे मात्राक्रम  - 1212+2222+122+22
तिथि:३१/०१/२०१४

©राम कुमार मिश्र

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों