Friday, 2 September 2011

गजल

बटोही केहन छैक बाट पर चलि कए देखिऔक

पिआसलक पिआस घाट पर चलि कए देखिऔक


घर मे घोंघाउज केने कोनो लाभ नहि भेटत आब

सस्ती-महँग केहन हाट पर चलि कए देखिऔक


कमजोर वस्तुक मर्म ओना नहि बुझाएत अहाँके

कने दिबाड़ लागल टाट पर चलि कए देखिऔक


बुझिए जेबै कुसिआर आ सिठ्ठी केर संबंध अहाँ तँ

कनेक कोल्हुआरक राट पर चलि कए देखिऔक


नै रहत कनियों मोल अहाँक गुण केर दुनियाँमे

अहाँ बिनु पैकिंग के हाट पर चलि कए देखिऔक



**** वर्ण---------20*******

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों