Wednesday, 12 December 2012

रुबाइ

रुबाइ-127

अनकर खेतक उपजा अपन नै भऽ सकत
बिनु मेहनत केने जन किछु नै कऽ सकत
भेटत अधिकार लाठिए हाथे आब
बेसी विनम्र भेने तँ किछु नै लऽ सकत

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों