Wednesday, 12 December 2012

गजल

बाल गजल-73

कन कन पानि कते देहो करै थरथर
प्यासो लागल नै पी सकब छै भिनसर

स्वीटर मोफलरसँ मोटगर भेलौं हम
लेपल तेल बहुत लागैत छी जोकर

कारी दिन कखनसँ छै हाथ छै सुन्न
लिखिते ए अ लिखेलै भेल सब गड़बड़

भैया सब बचले रऽहऽ चलि रहल पाला
तूँ प्रकृतिसँ लड़ें नै ओ सबसँ बलगर

जहिना जीवन तहिना ऋतु तँ बदलै छै
विज्ञानक गप छै लगबै धरा चक्कर

मफऊलातु-मफईलुन-मफईलुन
2221-1222-1222
अमित मिश्र

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों