Wednesday, 12 December 2012

गजल


बाल गजल-72

कारी सिलेटपर उज्जर छपल आखर
ई भंगरैयासँ मेटत सजल आखर

नै बचब गर्दासँ बोरापर जँ बैसब
माँटिपर आँङुरसँ छै बड लिखल आखर

भाषा जँ सीखब तँ बहुते बात बूझब
दोकानपर बोर्डपर छै घसल आखर

पोथी अपन खोलि देखै जे बहुत कम
देखें तँ फोटोक संगे छपल आखर

हिन्दी बहुत लिखल छै आ मैथिली नै
लागै बहुत लोक नै छै पढ़ल आखर

लेखक "अमित" एखनो छै ज्ञानमे कम
तेँ मैथिली सीखि रचबै बचल आखर

मुस्तफइलुन-फाइलातुन-फाइलातुन
2212-2122-2122

अमित मिश्र

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों