Saturday, 31 December 2011

रुबाइ




जुट्टी ओकर तँ जाले सन गूहल छलै
आँखि ओकर तँ उत्साहसँ खूजल छलै
छलै केने तैआरी ओ जेना की
एतै अनचिन्हार शायद बूझल छलै

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों