Friday, 10 February 2012

गज़ल



मैरचीवाली कोना टुकटुक ताकै मनमोहना आँखि ओझरायल छै
झाँऊं झाँऊं करै ई कुकुर केर टोली मधुमासे जेना उमतायल छै

पश्चिमक हवा गामे-गाम सिहकै, जेहने बिहौतिन तेहने कुमारि
फ़िदाहुसैनक मौगी उकरल सभमे, हरियर मोन बौरायल छै

सनम-बलम कौआ कुड़रै, कठबगुला मोनहा मुँह मकुयेनै छै
उमर धुमर के खियाल छै ककरा, वय सट्ठो पट्ठा गरमायल छै

देवता-पितर के डरभर ककरा, बरत-धरमक के छै पामौज
बन्हन ऊपर पुलिस-कचहरी, रंगरसिया मोन उधियायल छै

खुल्लम-खुल्ला देखै मधुरसलीला, नैनमैतियो आँखि करै मधुपान
आठिम एखन चढ़तै वाकि नै चढ़तै, काँचे वयस पकठायल छै

बेटी पुतोह आब नै घरो सुरक्षित, शहरी बात सदि करै चेतार
सतित्वक रक्षा कोना हेतै हौ विधाता ’शांतिलक्ष्मी’क मोन डेरायल छै

............वर्ण २६........

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों