Monday, 7 May 2012

रुबाइ


रूबाइ-3

अपन महीष कुरहरिए नाथब

सुगरे गूँह सँ चिपरी पाथब

छी स्वतंत्र देश के बासी तइँ

की बरछी सँ माला गाँथब ?

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों