Wednesday, 1 August 2012

गजल

बाल गजल

हम भारत के वीर जवान बनब
हम मिथिलाक पूत महान बनब

घर हमर जे उजरल लचरल
बसबय के एकर समान बनब

माय गे पढ़बौ हम खुब मोन लगा
नै पढ़ल लिखल बईमान बनब

घर समाज के देखति सुनति हम
पुरजोर इजोरियाक चान बनब

पछुआयल छै देश कोस मिथिला के
अगुआ भए सुधारक तान बनब

काज करब हम सबके संग लए
आ मैथिल जन मुहंक गान बनब

हम सप्पत खाइत छी आइ माय गे
मातृभूमि मिथिला केर मान बनब

(सरल वार्णिक वर्ण-१४)
राजीव रंजन मिश्र

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों