Monday, 12 March 2012

गजल


हाथ मे खुरपी माथे पथिया,

चललौं करै कुकूरे बधिया

आञ्गि-नूआ' चेथरी-चेथरी,

नाक मे झूलै तइयो नथिया

पूत-कपूतो कहबैछ बौआ,

बुच्ची केर त' होय सरधिया

बहु-बेटी के जारि रहल छै,

सभकेँ चढ़लै की दुर्मतिया


नारी जननी होइछै "चंदन"

सृष्टि केर ई प्रेम-मुरतिया

-----वर्ण-११-----

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों