Saturday, 24 March 2012

गजल

धाख सबटा बिसरि गेलै
घोघ हुनकर उतरि गेलै

झूठ कोना कें नुकायत
जखन सोंझा बजरि गेलै

सय बचायब बचत कोना
लाज सबटा ससरि गेलै

ओ छलै फेसन सँ डूबल
काज सबटा पसरि गेलै

भेल नेता नींद में सब
देश सगरो रगरि गेलै

(बहरे-रमल,
SISS दु-दु बेर सभ पांति में )
***जगदानन्द झा 'मनु'

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों