Friday, 23 March 2012

गजल

ओ बिसरि गेलै किए ,
प्रेम हेरेलै किए ,
बीच चौराहा जड़ल ,
राख दिल भेलै किए ,
आश अमृत के छलै ,
जहर बनि एलै किए ,
झुनझुना हमर समझि ,
आइ ओ खेलै किए ,
प्रेम देबी बनि क' ओ ,
नोर बोझेलै किए ,
नै जबाबो भेटलै ,
"अमित" दुख भेलै किए . . . । ।
फाइलातुन-फाइलुन
बहरे-मदीद

अमित मिश्र

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों