Wednesday, 28 March 2012

गजल

बाल-गजल

चम चम चम चम तारा चमके
बौआ कए हाथक तरुआ गमके

कारी बकरी,नब उज्जर महिष
लाल बाछी किए दौर-दौर बमके

बौआक घोरा सय-सय कए देखू
काका कें घोरा पिद्दी कतेक कमके

बाबी कें साडी मए कें लहंगा बहे
बौआ कें गघरी त कतेक झमके

बौआ हमर आब गुमशुम किए
किएक नै ठुमुक-ठुमुक ठुमके

(सरल वार्णिक, वर्ण-१३ )

***जगदानन्द झा 'मनु'

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों