Monday, 12 March 2012

गजल


कहू, की अहाँ अप्पन संग देबै

जीवन मेँ नवल उमंग देबै

हम भटकल बाट-बटोही छी,

पथ हेरब, हमरा संग देबै

राति जगय ई टुकुर-टुकुर,

ऐ आँखि सपन सतरंग देबै

"चंदन" जीवन जँ काठ बनत,

सौरभ मिझरा अंग-अंग देबै

-----वर्ण-१२-----

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों