Friday, 13 April 2012

गजल


गजल-२७

सपना नोरक धार बहाओल

जागि-जागि केर राति बिताओल

साज-सिंगार सोहैछ नै किछुओ

विरहा-आगि करेज जराओल

नभ मे चमकल जखने चंदा

हियामे प्रेमक ज्वारि उठाओल

कोइली सौतिन मुँह दुसै अछि

कू-कू-कुहुकि के होश उड़ाओल

अचके बालम ऐलाह अँगना

"चंदन" सजनी मोन जुड़ाओल



-----वर्ण-१२-------

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों