Tuesday, 10 April 2012

गजल



रिमझिम सावन बरसलै मोर अंगना
देखू सखी अंगना चलीएलै मोर सजना


अंगना में नाचाब हम खनका के कंगना
जन्म जन्मक पियास मेटलै मोर सजना


देखलौ मधुमास हम मनोरम सपना
अहाँ विनु करेज धरकलै मोर सजना


बैशाख जेठक अग्न सँ जरल छल मोन
अंग अंग में जलन उठलै मोर सजना


अहाँक छुवन सँ दिल में उठल जलन
मिलन लेल दिल तरसलै मोर सजना


वर्ण:-१६
रचनाकार:-प्रभात राय भट्ट

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों