Friday, 20 April 2012

गजल



सदिखन अहीँ धेआन मे रहलौँ हमर
कखनो अहाँ धेआन मे रमलौँ हमर

शोणित अपन देलौँ जड़ा लिखलौँ गजल
की पाँति एको प्रेम मे रचलौँ हमर

नै थाह भेटल कोन घर छै प्रेम यै
कहने छलौँ जे झूठ सन कहलौँ हमर

छी कल्पना मे रूप फोटो छापने
की दिल सँ एक्को बेर मन गमलौँ हमर

छी ठेठ हम भाषा हमर बूझलौँ कहू
की "अमित" नेहक भाव के पढ़लौँ हमर

{मुस्तफइलुन
2212 तीन बेर सब पाँति मे}
बहरे-रजज

अमित मिश्र

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों