Monday, 30 July 2012

गजल

प्रस्तुत अछि जवाहर लाल काश्यप जीक ई बाल गजल ( ऐमे व्याकरणक कमी छै, मुदा शाइर नव छथि आ उम्मेद अछि जे आगू ई आर बेसी नीक लिखता )


खसलै पर नहिं कनलै बौआ
खसलै पर फेर उठलै बौआ

हाथ पकडि चललै बौआ
हाथ छोडि क चललै बौआ

अपने पैर पर दौडलै बौआ
चान के छू लेलकै बौआ

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों