Monday, 14 January 2013

गजल

गजल

कखनो घटि सकै छैक घटना की करब
बरसै अनदिनो मेघ ठनका की करब

नै कहि राशि नक्षत्र कखन जेतै बदलि
घुर्णन तेज धीरेक रचना की करब

सामाजिक कते संकुचित भेलै आइ
मनुखक छै घृणा द्वेष गहना की करब

बहलै कतसँ ओ पवन जे छूलक मोन
स्वर्गक गप छलै फेर सपना की करब

छल सड़कपर घूमैत हत्यारा आइ
तैयो छूटि गेलै सरगना की करब

पूनम राति कोहबरमे दोसर चान
प्रेमे मात्र छै मूँह बजना की करब

मफऊलातु-मुस्तफइलुन-मफऊलातु
2221-2212-2221
बहरे-हमीद

अमित मिश्र

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों