Monday, 14 January 2013

गजल

गजल 

देह काँपै देख एहन आतंककेँ
लोक पुतला बनल अनमन आतंककेँ

साँसमे गंधक घुसल खूनक पेय छै
देशमे बस बचल जीवन आतंककेँ

राम जानै आब केकर बलि पड़त तें
संग मिल सब करत सेवन आतंककेँ

छोड़ि देलक खेत पड़ता सब खेतिहर
बाढ़ि बनि एबे करत तन आतंककेँ

जीब रहलै अपन अपनौती लेल सब
आइ मीते बनल जोड़न आतंककेँ

घर अपन मजगूत करियौ विश्वासकेँ
चार अपने खसत एहन आतंककेँ

फाइलातुन-फाइलातुन-मुस्तफइलुन
2122-2122-2212
बहरे-जदीद

अमित मिश्र

No comments:

Post a Comment

तोहर मतलब प्रेम प्रेमक मतलब जीवन आ जीवनक मतलब तों